Tuesday, October 19, 2021
Homeहेल्थBenefits of Jumping Jacks : सूर्य नमस्कार से पहले करें जंपिंग जैक्स, सेहत...

Benefits of Jumping Jacks : सूर्य नमस्कार से पहले करें जंपिंग जैक्स, सेहत को होगा फायदा

Benefits of Jumping Jacks : शरीर के बेहतर स्वास्थ्य के लिए नियमित योग करना बहुत जरूरी है। ऐसा करने से आप कई तरह की बीमारियों से दूर रहेंगे। आइए, जानते हैं कि शरीर को चुस्त दुरुस्त रखने के लिए आप किन छोटे-छोटे अभ्यासों को कर सकते हैं। इसके साथ ही जानिए सूर्य नमस्कार करने की सही विधि।

सबसे पहले थोड़ी देर श्वास-प्रश्वास का अभ्यास करें और ध्यान लगाएं व मन को शांत करें। इसके बाद योगा मैट पर खड़े हो जाएं। इसके बाद धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए कदमताल करें। इस सूक्ष्म व्यायाम को रोज करें। इसे भी कम से कम 1 मिनट तक करना है। अब इसे धीरे से रोकें और गहरी सांस लें। इसके बाद जंपिंग जैक्स करें। ध्यान रहे कि जिन लोगों के घुटनों में दर्द है वो जंपिंग जैक्स न करें। इसे कुछ देर करने के बाद गहरी सांस लें। इसके बाद आप सूर्य नमस्कार करें।

प्रणामासन (Benefits of Jumping Jacks)

इस आसन को करने के लिए योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और अपने दोनों को पैरों को मिला लें। इस दौरान अपनी कमर सीधी रखें। अब हाथों को अपने सीने के पास लाएं और प्रणाम करें।

हस्त उत्तनासन (Benefits of Jumping Jacks)

प्रणामासन में खड़े होकर अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और सीधा रखें। अब अपने हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में ही पीछे की तरफ ले जाएं और अपनी कमर को पीछे की तरफ झुका लें।

पादहस्तासन (Benefits of Jumping Jacks)

पादहस्तासन करने के लिए धीरे-धीरे सांस छोड़ें। अब आगे की ओर झुकते हुए अपने हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं। इस मुद्रा में आपका सिर घुटनों से मिल जाएगा।

अश्व संचालनासन (Benefits of Jumping Jacks)

इस आसन के लिए राइट पैर पीछे की ओर ले जाएं। इस पैर का घुटना जमीन से छूना है। इस दौरान दूसरे पैर को मोड़ें। अपनी हथेलियों को जमीन पर सीधा रखें और ऊपर सिर रखकर सामने की ओर देखें।

दंडासन (Benefits of Jumping Jacks)

इस आसन को करते समय अपने दोनों हाथों और पैरों को सीधा और एक ही लाइन में रखें। इसके बाद पुश-अप करने की अवस्था में आ जाएं।

अष्टांग नमस्कार

अब अपनी हथेलियों, चेस्ट, घुटनों और पैरों को जमीन से सटाएं। अब इस अवस्था में रहें।

भुजंगासन

इस अभ्यास के लिए अपनी हथेलियों को जमीन पर रखें और पेट को जमीन से सटाते हुए गर्दन को पीछे की ओर झुकाएं।

अधोमुख शवासन

अधोमुख शवासन को पर्वतासन भी कहा जाता है। इसके के लिए अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें। अब कूल्हे को ऊपर की ओर उठा लें। अपने कंधों को सीधा रखें और मुंह को अंदर की तरफ रखें।

अश्व संचालनासन

इसके लिए अपने राइट पैर पीछे की ओर ले जाएं। ध्यान रहे कि घुटना जमीन से मिलना चाहिए। अब अपने दूसरे पैर को मोड़े और हथेलियों से जमीन को छुएं। सिर को आसमान की ओर रखें।

पादहस्तासन

इस योगाभ्यास के लिए आगे की ओर झुक कर हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं। इस दौरान आपको अपना सिर घुटनों से मिलना है।

हस्त उत्तनासन

इस आसन को अर्धचंद्रासन भी कहा जाता है। अब प्रणामासन में खड़े होकर अपने हाथों को सिर के ऊपर उठा लें और सीधा रखें। अब हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में ही पीछे की ओर ले जाएं। अपनी कमर को पीछे की तरफ झुका लें।

प्रणामासन

अंत में आपको फिर से प्रणामासन करना है। ध्यान रहे कि योगाभ्यास अपनी क्षमता अनुसार ही करना है। इस दौरान श्वास-प्रश्वास और व्यायाम से जुड़े विशेष नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। इसी के साथ सही मात्रा में सही पोषण लेना भी आवश्यक है। आप सूक्ष्म व्यायाम के जरिए ही आसानी से अपनी सेहत का ख्याल रख सकते हैं। साथ ही बड़े आसनों के लिए अपने शरीर को तैयार भी कर सकते हैं। (Benefits of Jumping Jacks)

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

Also Read : Healthy Liver Diet बीमारियों से बचाएंगे ये 5 फूड, लिवर रहेगा एकदम चुस्त दुरुस्त

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

Sameer Sainihttp://indianews.in
Sub Editor @indianews | Quick learner with “can do” attitude | Have good organizing and management skills
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE