Wednesday, January 26, 2022
HomeCoronavirusKadha For Immunity : इम्यूनिटी बढ़ाता है काढ़ा, अत्यधिक सेवन नुकसानदायक

Kadha For Immunity : इम्यूनिटी बढ़ाता है काढ़ा, अत्यधिक सेवन नुकसानदायक

Kadha For Immunity : इम्यूनिटी बढ़ाता है काढ़ा, अत्यधिक सेवन नुकसानदायक

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली।
Kadha For Immunity: सर्दी हो चाहे गर्मी जब भी व्यक्ति को जुकाम, खांसी जैसी बीमारी होती है तो घरवाले सबसे पहले उसको काढ़ा (Immunity booster kadha) बनाकर पिलाते हैं, लेकिन पिछले दो साल से कोरोना जैसी महामारी फैलने के बाद से लोगों में काढ़े को इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में प्रयोग किया जा रहा है।

बताया जाता है कि आयुष मंत्रालय से लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय तक महामारी के दौर में इम्यून सिस्टम (Immunity boosting kadha) को मजूबत करने के लिए काढ़े के प्रयोग की सलाह देते रहे हैं, लेकिन कई बार लोगों की ओर से काढ़े (ayush kadha) के ज्यादा प्रयोग से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां सामने आई हैं। यानी काढ़े का सही तरीके और मात्रा में इस्तेमाल करना जरूरी है। आइए जानते हैं कितनी मात्रा में काढ़ा पीना चाहिए। जो शरीर को फायदा दे ना कि नुकसान करे।

Kadha For Immunity

कैसे बनाया जाता है काढ़ा? immunity booster kadha

booster drink: ‘काढ़ा’ या हर्बल मिश्रण, जड़ी बूटियों और मसालों का मिश्रण होता है। काढ़ा बनाने के लिए गर्म पानी में आमतौर पर अदरक, नींबू, हल्दी, काली मिर्च, अजवाइन, गिलोय, लौंग, इलायची, शहद और चुटकी भर नमक को उबाला जाता है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए प्रयोग करने वाले काढ़े में तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, शुंठी या सोंठ (सूखी अदरक), मुनक्का, गुड़ और ताजा नींबू के रस के इस्तेमाल की सलाह दी है।

कितनी मात्रा में पीना चाहिए काढ़ा (How much decoction should be drunk

  • kadha benefits: भले ही काढ़े के प्रयोग से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, लेकिन इसके अधिक सेवन से कई परेशानियां हो सकती हैं। यानी काढ़े का प्रयोग तभी लाभदायक होता है, जब इसे सही मात्रा में और सही खुराक के साथ लिया जाए। एक स्वस्थ व्यक्ति को एक दिन में एक या दो बार काढ़ा पीना चाहिए। एक बार में करीब 50 एमएल काढ़ा पीना चाहिए।
  • इसके लिए 100 एमएल पानी में काढ़े में मिलाए जाने वाले पदार्थों को तब तक उबालना चाहिए जब तक ये 50 एमएल ही न रह जाए। एक स्वस्थ वयस्क व्यक्ति के लिए एक दिन में एक कप या दो कप (करीब 50 से 100 एमएल) काढ़ा लेना ही सही होता है।
  • हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार ज्यादातर सुबह खाली पेट काढ़े का प्रयोग करने से बचना चाहिए। कफ से पीड़ित लोगों के लिए काढ़े का प्रयोग ज्यादा लाभदायक होता है, क्योंकि ऐसे लोगों में वायरल इन्फेक्शन का खतरा भी ज्यादा रहता है।(kadha benefits) वहीं वात और पित्त बॉडी टाइप वाले लोगों को अपने काढ़े में काली मिर्च, दालचीनी और सोंठ मिलाने से बचना चाहिए। ऐसे लोगों के लिए शाम को काढ़ा पीना ज्यादा अच्छा माना जाता है।

Kadha For Immunity

क्या इम्यून सिस्टम होता है मजबूत? (Immunity booster kadha)

  • कोरोना से बचाव के उपायों के तहत इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय और आयुष मंत्रालय भी काढ़े के उपयोग की सलाह दे चुके हैं। हर्बल टी या काढ़ा को इम्यूनिटी मजबूत करने के नेचुरल उपायों में से एक माना जाता है।
  • काढ़े के उपयोग से सामान्य सर्दी, जुकाम और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से बचाव में मदद मिलती हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन की स्टडी के मुताबिक,काढ़ा जैसे हर्बल उपाय शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं, जो शरीर को संक्रामक वायरस से लड़ने में मदद कर सकते हैं।

क्या काढ़ा पीने से होते हैं साइड इफेक्ट? kadha side effects in hindi

  • वैसे तो काढ़ा आमतौर पर इम्यून सिस्टम मजबूत करता है, लेकिन अगर इसे ज्यादा मात्रा में लिया जाए या अधिक बार पीया जाए तो इसके कई साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं।
  • दरअसल, काढ़े को बनाने में प्रयोग की जाने वाली सामग्री से शरीर में काफी गर्मी पैदा होती है। काढ़े के ज्यादा प्रयोग से व्यक्ति में हाइपरएसिडिटी, पेट और आंत में जलन और दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  • काढ़ा का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने पर कब्ज और दस्त की समस्या हो सकती है। ज्यादा काढ़ा पीने से पेट में अल्सर या मुंह में छाले होने जैसी समस्याएं भी सामने आ सकती हैं।
  • काढ़े के ज्यादा प्रयोग से ये पेट और आंतों पर असर पड़ता है, जिससे अपच, डायरिया और गैस की समस्याएं होती हैं, जो धीरे-धीरे एनल फिशर बन जाती है।
  • एनल फिशर एक गुदा संबंधी समस्या, जो गुदा की पतली, नाजुक परत में एक घाव या उसका फटना है।

कैसे जानें कि काढ़ा नुकसान कर रहा? (kadha side effects)

नाक से खून बहना। मुंह में छाले निकलना। बहुत ज्यादा एसिडिटी होना। अपच या बदहजमी होना। पेशाब में समस्या होना। अगर आपको काढ़ा पीने की वजह से इनमें से कोई भी समस्या दिखाई दे, तो तुरंत ही काढ़ा पीना बंद करें और डॉक्टर की सलाह लें।

Also Read :Corona Blast in Jharkhand पांच स्वास्थ्य कर्मियों समेत 25 मिले कोरोना पॉजिटिव

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE