Thursday, May 19, 2022
HomeDelhiबेटे के शव को 90 किलोमीटर स्कूटर पर ले जाने को क्यों...

बेटे के शव को 90 किलोमीटर स्कूटर पर ले जाने को क्यों मजबूर हुआ मजदूर पिता, जानें क्या थी मजबूरी?

  • एंबुलेंस का किराया देने में था असमर्थ
  • अस्पताल ने मांगा था ज्यादा किराया
  • अस्पताल से करीब 90 किलोमीटर दूर था गांव
  • संबंधित चिकित्सा अधिकारी को निलंबित करने के आदेश जारी
  • अस्पताल अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी

इंडिया न्यूज, आंध्र प्रदेश। अकसर अस्पतालों पर लापरवाही और अव्यवस्था के आरोप लगते रहते हैं। ऐसा ही एक मामला आंध्र प्रदेश के तिरुपति से सामने आया है जहां एक सरकारी अस्पताल ने एक शव ले जाने के लिए एंबुलेंस का किराया ज्यादा बताया जो वह दे नहीं पाया और उसे अपने बेटे के शव को स्कूटर पर ले जाना पड़ा।

मजदूरी का काम करता था मृतक का पिता

आपको बता दें कि यह मामला आंध्र प्रदेश के तिरुपति की है। यहां स्थित वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया अस्पताल में एक मजदूर ने अपने दस साल के बेटे को भर्ती कराया था, जहां उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। उसकी मौत के बाद शव ले जाने के लिए पिता ने अस्पताल से एंबुलेंस के बारे में पूछा तो अस्पताल में मौजूद स्टाफ और एंबुलेंस ड्राइवर ने उनसे शव ले जाने के लिए काफी ज्यादा पैसों की मांग की।

अस्पताल से करीब 90 किलोमीटर दूर था गांव

इतना ही नहीं आरोप है कि स्टाफ ने बाहर से भी किसी एंबुलेंस को एंट्री देने से इनकार कर दिया। इसके बाद मजबूर पिता ने बेटे की लाश को स्ट्रेचर से उठाकर अपने कंधों पर रखा और स्कूटर से ले जाना पड़ा। जैसे ही इस घटना का वीडियो और इसकी तस्वीरें बाहर आईं हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि उनका गांव अस्पताल से करीब 90 किलोमीटर दूरी पर है।

संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई

जानकारी अनुसार कलेक्टर ने संबंधित चिकित्सा अधिकारी सरस्वती देवी को निलंबित करने का आदेश दिया है और अस्पताल अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। वहीं स्थानीय अधिकारी नरसा रेड्डी ने बताया कि बच्चे को गंभीर किडनी और लीवर खराब होने के कारण रविवार को अस्पताल लाया गया था और सोमवार की रात उसने अंतिम सांस ली है। मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

राजनीतिक पार्टियों ने वाईएसआरसीपी पर साधा निशाना

उधर विपक्ष ने घटना को लेकर सत्तारूढ़ वाईएसआरसीपी पर निशाना साधा। एमएलसी नारा लोकेश ने कहा कि 90 किलोमीटर एक पिता को दोपहिया वाहन पर बेटे के शव को ले जाने के लिए मजबूर किया गया। इतना ही नहीं तेलुगु देशम पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकतार्ओं ने अस्पताल के सामने धरना दिया।

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

यह भी पढ़ें : सुखबीर सिंह बादल ने जड़े आरोप, कहा-मान ने नालेज शेयरिंग एग्रीमेंट की आड़ में पंजाब के हितों को दिल्ली को बेचा

यह भी पढ़ें : 4 जून से 13 जून तक आयोजित होंगे खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021, जानिए कहां होंगे मुकाबले

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular