Wednesday, December 8, 2021
HomeDelhiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 नवंबर को करेंगे Jewar Airport का शिलान्यास, उत्तर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 नवंबर को करेंगे Jewar Airport का शिलान्यास, उत्तर प्रदेश को मिलेगा 5वां अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा

इंडिया न्यूज, गौतम बुद्ध नगर:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार 25 नवंबर को जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) का शिलान्यास करेंगे। इस हवाई अड्डे के शिलान्यास के साथ ही प्रदेश 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों वाला राज्य बनने की तरफ अपना कदम बढ़ाएगा और 2024 तक प्रदेश के पास 5वां एयरपोर्ट होगा और देश में 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों वाला पहला राज्य बन जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन किया था जिससे प्रदेश के पूर्वी जिलों को दुनिया से जोड़ने में आसानी होगी।

Jewar Airport

अभी तक प्रदेश में लखनऊ और वाराणसी हवाई अड्डों को ही अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली थी, लेकिन 20 अक्टूबर को कुशीनगर में राज्य का तीसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट शुरू हुआ और अयोध्या में चौथे अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का काम चल ही रहा है। 25 नवंबर को जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद राज्य के पास 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे हो जाएंगे। जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद राजधानी दिल्ली देश का पहला शहर बन जाएगा, जहां 70 किमी की रेंज में 3 एयरपोर्ट होंगे। जिनमें 2 इंटरनेशनल, दिल्ली और जेवर होंगे। तीसरा एयरपोर्ट गाजियाबाद का हिंडन है, जहां से घरेलू उड़ान संचालित होती हैं।

5845 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा Jewar Airport

जेवर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट 5845 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा, जिसमें कुल 4 हैलिपैड और 5 रनवे बनाए जाएंगे। पहले चरण में जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) का निर्माण 1334 हेक्टेयर जमीन पर होगा, जिसके अंतर्गत 2 यात्री टर्मिनल और 2 रनवे बनाए जाएंगे। इस हवाई अड्डे की सालाना क्षमता फिलहाल 40 लाख यात्रियों की होगी, जो कि साल-2050 तक 20 करोड़ होने का अनुमान है। 3 हजार किलोमीटर के दायरे में बन रहे जेवर एयरपोर्ट के निर्माण से इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में उत्तर प्रदेश एक लंबी छलांग लगा लेगा। एक्सप्रेसवे राज्य कहलाने वाला यूपी अब एयरपोर्ट राज्य भी कहलाया जाएगा।

Jewar Airport

देश में सबसे बड़ा होगा Jewar Airport

जेवर में बन रहे हवाई अड्डे का नाम नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा जिसकी दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाई अड्डे से दूरी 72 किलोमीटर होगी। इसके अलावा नोएडा और दादरी से इसकी दूरी लगभग 40 किलोमीटर होगी। 3,000 एकड़ में बनने जा रहा जेवर हवाई अड्डा देश में सबसे बड़ा होगा। इस एयरपोर्ट के बनने से दिल्ली के हवाई अड्डे पर दबाव कम होगा ही, इसके साथ-साथ आगरा, मथुरा समेत पश्चिम यूपी के कई जिलों के लोगों को इससे सुविधा होगी।

Jewar Airport

शुरूआत में जेवर एयरपोर्ट से 8 डोमस्टिक और 1 इंटरनेशनल फ्लाइट शुरू की जाएगी, जबकि दिल्ली एयरपोर्ट की क्षमता पूरी होते ही यहां से 27 डोमेस्टिक और 27 इंटरनेशनल फ्लाइट्स उड़ान भरने लगेंगी। जेवर एयरपोर्ट साल 2030 तक दिल्ली जैसा अंतरराष्ट्रीय आकार ले पाएगा।

8 घरेलू उड़ानों की होगी शुरूआत Jewar Airport 

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पहले चरण का काम बीते सितंबर को शुरू हो चुका है। पहले चरण में जमीन को समतल करने और बाउंड्रीवाल बनाने का काम को पूरा कर लिया गया है। पहले चरण का काम शुरू होने से पहले जेवर के रोही गांव में 70 साल पुरानी और 20 फीट ऊंची हनुमानजी की मूर्ति को सारे धार्मिक रीति-रिवाज से हटा लिया गया था। जेवर एयरपोर्ट से साल 2024 तक पहली हवाई उड़ान सेवा शुरू होगी। एयरपोर्ट के पहले चरण में 1334 हेक्टेयर जमीन पर निर्माण होगा जिसमें 9 हजार करोड़ से निर्माण किया जाएगा।

Jewar Airport

जेवर एयरपोर्ट में कुल 30 हजार करोड़ रुपए की लागत आएगी। जेवर एयरपोर्ट वर्ल्ड क्लास हो इसके लिए तैयारियां हो रहीं हैं, जिसमें बेहतर कनेक्टिविटी से लेकर मनोरंजन साधनों तक का खास ध्यान रखा जायेगा। दिल्ली से घरेलू उड़ानों में 40 फीसदी मांग मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद व चेन्नई जैसी मेट्रो सिटी में आने-जाने वाले यात्री हैं। इसलिए जेवर एयरपोर्ट से शुरूआत में 8 घरेलू उड़ानें शुरू की जाएंगी।

देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा Jewar Airport 

भारत में दिल्ली का इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट सबसे बड़ा हवाई अड्डा है, मुंबई का छत्रपति शिवाजी हवाई अड्डा दूसरा और बेंगलुरु का अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा तीसरे स्थान पर है, लेकिन जेवर एयरपोर्ट के बनने के बाद क्षेत्रफल के नजरिए से जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट भारत में सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। 2024 में जेवर एयरपोर्ट अपने पूरे क्षेत्रफल पर बनने के बाद, फ्लोरिडा के ऑरलैंडो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को पछाड़कर दुनिया के चौथे बड़े हवाई अड्डे की सूची में अपना स्थान बनाएगा और बिग-फाइव एयरपोर्ट की सूची में से डलास एयरपोर्ट का नाम बाहर हो जाएगा।

Jewar Airport

7 गांवों की जमीन पर बनेगा Jewar Airport
  • नंगला फूल खां
  • नंगला छीतर
  • नंगला शरीफ खां
  • दयानतपुर खेड़ा
  • किशोरपुर
  • रोही
  • नंगला गणेशी
जेवर एयरपोर्ट से वर्तमान कनेक्टिविटी Jewar Airport 
  • यमुना एक्सप्रेस-वे
  • बुलंदशहर-जेवर हाईवे
  • पेरिफेरल एक्सप्रेसवे
आने वाले दिनों में जेवर एयरपोर्ट से कनेक्टिविटी Jewar Airport 
  • जेवर एयरपोर्ट से दिल्ली एयरपोर्ट तक मेट्रो कॉरिडोर बनाने की तैयारी
  • ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क टू से जेवर एयरपोर्ट तक मेट्रो चलेगी
  • गाजियाबाद-अलीगढ़ हाईवे (एनएच-91) को खुर्जा से जेवर तक बेहतर करेंगे
  • दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे से जोड़ने के लिए हरियाणा के बल्लभगढ़ से जेवर एयरपोर्ट तक 6 लेन की 31 किलोमीटर लंबी सड़क बनेगी
  • बुलेट ट्रेन दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर का एक स्टेशन जेवर एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग पर बनेगा
  • नोएडा फिल्म सिटी से जेवर एयरपोर्ट तक पॉड टैक्सी चलेगी
IGI के पास 256 विमान खड़े करने की क्षमता Jewar Airport

दिल्ली का इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट 2066 हेक्टेयर जमीन पर बना है। यहां 3 रनवे और 3 टर्मिनल हैं। आईजीआई के टर्मिनल नंबर 3 विश्व का सबसे बड़ा यात्री टर्मिनल है। इस एयरपोर्ट से रोजाना करीब 700 विमानों की आवाजाही होती है और यहां एक बार में 256 विमानों को खड़ा करने की क्षमता है।

Jewar Airport

आईजीआई पर क्यों बढ़ा यात्रियों का दबाव Jewar Airport
  • 21 साल के आंकड़ों की बात करें तो साल दर साल डोमेस्टिक और इंटरनेशनल पैसेंजर्स का दबाव बढ़ता गया।
  • साल 2000-01 में डोमेस्टिक फ्लाइट्स के यात्रियों की करीब 50 लाख संख्या थी तो वहीं इंटरनेशनल पैसेंजर 30 लाख से ज्यादा थे।
  • 10 साल बाद डोमेस्टिक के यात्री चार गुना बढ़ गए, जबकि इंटरनेशनल में करीब 3 गुना की बढ़ोत्तरी हुई।
  • 2016-17 की बात करें तो डोमेस्टिक फ्लाइट्स के यात्रियों में दोगुने की बढ़ोत्तरी हुई। यह 4.22 हो गए।
  • 2016-17 में इंटरनेशनल फ्लाइट्स के यात्री काफी कम हो गए। इनकी संख्या 50 लाख रह गई।
  • अब 2021 में डोमेस्टिक के यात्रियों की संख्या 6.5 करोड़ के करीब है।

 

Jewar Airport

उत्तर प्रदेश के पास 3 एक्सप्रेस वे और 3 पर काम जारी Jewar Airport

देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेस वे का खिताब पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के पास है जो कि उत्तर प्रदेश में है, जिसका हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था। इससे पहले यह दर्जा यूपी के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे को हासिल था। अभी उत्तर प्रदेश में यमुना एक्सप्रेस वे, लखनऊ एक्सप्रेस वे और पूर्वांचल एक्सप्रेस वे शुरू हो चुके हैं और बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे, गंगा एक्सप्रेस वे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे पर काम जारी है।

Jewar Airport

इन सभी एक्सप्रेस वे को मिला कर राज्य के पास अगले कुछ सालों में कुल 6 एक्सप्रेस वे हो जाएंगे। इसी के साथ दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे का एक बड़ा हिस्सा यूपी के गाजियाबाद, हापुड़ और मेरठ जैसे जिलों से पड़ता है। मुंबई-पुणे एक्सप्रेस वे के दम पर देश में अपनी पहचान हासिल करने वाले महाराष्ट्र के पास भी 3 एक्सप्रेसवे हैं। उत्तर प्रदेश ने अपने एक्सप्रेस वे के जरिए देश में अलग पहचान बनाई है।

Read More: Terrorism in Jammu and Kashmir आतंकियों के निशाने पर एयरफोर्स व सीआरपीएफ, अलर्ट

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE