Thursday, January 20, 2022
HomeFestivalsNational Youth Day 2022 History in Hindi भारत में कब और क्यों...

National Youth Day 2022 History in Hindi भारत में कब और क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय युवा दिवस

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली :
National Youth Day 2022 History in Hindi :
इंसान का जन्म प्रकृति पर विजय पाने के लिए हुआ है उसका पालन करने के लिए नहीं” – दार्शनिक स्वामी विवेकानंद का यह उद्धरण आज भी हर उस व्यक्ति के कानों में गूंजता है जो अपने निडर रवैये से किसी भी कठिनाई को दूर करना चाहता है। स्वामी विवेकानंद के जीवन और शिक्षाओं ने दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रोत्साहित किया है।

1985 में, भारत सरकार (Indian Goverment) ने स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस 12 जनवरी को महान दार्शनिक और भिक्षु के सम्मान में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में घोषित किया। 1985 से, इस दिन को पूरे भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। जब हम स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती पर राष्ट्रीय युवा दिवस मनाते हैं, तो आइए उन्हें और उनकी शिक्षाओं को याद करें। जिन्होंने हमारे जीवन को अच्छे के लिए बदल दिया।

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ National Youth Day 2022 History in Hindi

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) का जन्म नरेंद्रनाथ दत्ता का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कोलकाता, पश्चिम बंगाल में हुआ था। उनका रुझान हमेशा अध्यात्म की ओर था। उन्होंने बहुत कम उम्र से ध्यान का अभ्यास किया और एक निश्चित अवधि के लिए ब्रह्म समाज आंदोलन में भी शामिल हो गए। सबसे महान देशभक्तों में से एक, उन्हें वेदांत और योग के भारतीय दर्शन को पश्चिमी दुनिया में पेश करने का श्रेय भी दिया जाता है।

यद्यपि वह अपने पिता, श्री रामकृष्ण के निधन से सदमे में आए गए थे । उन्होंने भारत के हर हिस्से का पता लगाने और खोजने के लिए एक लंबी यात्रा शुरू की। एक सच्चे कर्मयोगी स्वामी विवेकानंद को इस देश के युवाओं पर पूरा भरोसा था। उनका दृढ़ विश्वास था कि युवा अपनी कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति के माध्यम से भारत के भाग्य को बदल सकते हैं।

युवाओं के लिए स्वामी जी का संदेश National Youth Day 2022 History in Hindi

युवाओं के लिए उनका संदेश था, “मैं जो चाहता हूं वह लोहे की मांसपेशियां और स्टील की तंत्रिकाएं हैं, जिसके अंदर उसी सामग्री का दिमाग रहता है जिससे वज्र बनता है।” इस तरह के संदेशों के माध्यम से उन्होंने युवाओं में बुनियादी मूल्यों को स्थापित करने की कामना की।

आत्मविश्वासी व्यक्तित्व थे स्वामी विवेकानंद

उन्होंने हमेशा युवाओं को आत्मविश्वासी रवैया रखने के लिए प्रेरित किया। इसके पीछे का कारण – जीवन द्वारा प्रस्तुत चुनौतियों से लोग हमेशा डरते रहते हैं जब उन्हें खुद पर भरोसा नहीं होता है। स्वामी विवेकानंद का मानना था कि जो कुछ भी हमें आध्यात्मिक, शारीरिक या मानसिक रूप से कमजोर बनाता है, उसे जहर की तरह खारिज कर देना चाहिए। योग और ध्यान की मदद से कमजोर विचारों को आशावाद से बदला जाना चाहिए।

Read More : National Youth Day 2022 Wishes

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE