Thursday, October 21, 2021
HomeTrendingForeign Exchange फॉरेन एक्सचेंज मार्केट और रेट क्या है

Foreign Exchange फॉरेन एक्सचेंज मार्केट और रेट क्या है

Foreign Exchange:

Foreign Exchange Market Kya Hai

करेंसी का अधिकांश आदान-प्रदान बैंकों द्वारा होता है। विभिन्न देशों द्वारा जारी करेंसी बैंकों के द्वारा ही चलती हैं। बैंकों से ही अधिकतर लेनदेन होते हैं। उदाहरण के लिए जैसे किसी आदमी के पास वैध अमेरिकी डॉलर के बिल हैं, वह उन्हें एक बैंक में विनिमय दर पर भारतीय रुपये में परिवर्तित करवा सकता है। यह बैंक विशाल फॉरेन मार्केट एक्सचेंज (Foreign Exchange Market) में एक छोटी इकाई का प्रतिनिधित्व करता है।

Top 10 richest Indians in 2021 रोजाना इतनी कमाई कि पढ़कर आप हो जाएंगे दंग

Indias Richest Women In 2021 भारत की अमीर महिलाओं की लिस्ट

Currency Ki Value Ka Nirdharan Kaise Hota Hai

किसी देश का केंद्रीय बैंक (भारत में आरबीआई) विदेशी करेंसी बाजार में स्थानीय मुद्रा के लिए किसी भी प्रकार की समस्याओं से निपटने के लिए विदेशी मुद्रा का एक बड़ा भंडार रखता है।

Currency Kaise Chalti Hai

वे किसी विशेष करेंसी की आपूर्ति को सीधे या कुछ अन्य कारकों को बदलकर समायोजित करके ऐसा करते हैं। जैसा कि पहले कहा गया है, यह आपूर्ति और मांग है जो एक करेंसी के मूल्य को निर्धारित करती है। चूंकि मांग को नियंत्रित करना मुश्किल से प्राधिकरण के हाथों में होता है, इसलिए वे बाजार में मुद्रा की आपूर्ति को समायोजित करके मुद्रा के मूल्य को प्रभावित करते हैं।

Health Tips : कैसे रखें दिल का ख्याल

Indian Rupee Market Main Dollar Kaise Chalta Hai

अमेरिकी डॉलर की मांग अधिक है क्योंकि भारत अमेरिका से निर्यात से अधिक उत्पादों का आयात कर रहा है। ऐसे में अमेरिकी डॉलर की मांग बढ़ेगी क्योंकि अमेरिका से सामान खरीदते समय ज्यादा डॉलर का भुगतान किया जाएगा। भारतीय पक्ष की ओर से इन सामानों के भुगतान के लिए विदेशी मुद्रा बाजार से अधिक डॉलर खरीदना होगा।

ऐसे में आपको बता दें कि भारतीय रुपये की तुलना में अमेरिकी डॉलर की मांग बढ़ेगी और डॉलर का मूल्य। लेकिन अगर भारतीय रुपये का मूल्य बहुत गिर जाता है, तो इसके लिए भारत सरकार को हस्तक्षेप करना होगा। ऐसे में वे भारतीय रुपये की आपूर्ति को कम करने की कोशिश करेंगे। वे भारतीय रुपये को उसके पास मौजूद अमेरिकी डॉलर के भंडार का उपयोग करके बाजार से खरीदेंगे ताकि बैलेंस बना रहे।

जैसे ही यह अमेरिकी डॉलर का उपयोग करके अधिक भारतीय मुद्रा खरीदता है। ऐसे में भारतीय मुद्रा की आपूर्ति कम हो जाती है वहीं अमेरिका में वृद्धि होती है। इस कारण रुपये के मूल्य में वृद्धि होती है और डॉलर के मूल्य में कमी आती है। वे अन्य तकनीकों का उपयोग करके आपूर्ति को भी प्रभावित कर सकते हैं।

लंबे समय में, एक मुद्रा को अच्छे मूल्य पर बनाए रखने के लिए, किसी देश को अपनी मुद्रा की मांग में वृद्धि करने की आवश्यकता होती है। यह प्रक्रिया का एक छोटा सा उदाहरण है, वास्तविक प्रक्रिया बड़े और कई स्तरों पर काम करती है।

Benefits Of Eating Fruit फलों के सेवन से नहीं होगा मोटापा

यह एक विशेष मुद्रा की मांग है जो लंबे समय में इसका मूल्य निर्धारित करती है। यही मांग किसी देश में राजकोषीय और मौद्रिक नीतियों, किसी देश में हो रहे व्यापार की मात्रा, मुद्रास्फीति, किसी देश की राजनीतिक और आर्थिक स्थितियों में लोगों के विश्वास जैसे कई कारकों से प्रभावित होती है।

Read Also : How To Use Eyeliner आईलाइनर से बढ़ाएं आंखों की खूबसूरती, जानें सही तरीका

Connect Us : Twitter Facebook

SHARE

Amit Guptahttp://indianews.in
Managing Editor @aajsamaaj , @ITVNetworkin | Author of 6 Books, Play and Novel| Workalcholic | Hate Hypocrisy | RTs aren't Endorsements
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE