Saturday, October 23, 2021
Homelekh-samikshaGreen Hydrogen: India's Another Revolution in the Air ग्रीन हाइड्रोजन: हवा में...

Green Hydrogen: India’s Another Revolution in the Air ग्रीन हाइड्रोजन: हवा में भारत की एक और क्रांति

Green Hydrogen: India’s Another Revolution in the Air

जी.वी. अंशुमान राव
राजनीतिक विश्लेषक

निस्संदेह, ऊर्जा हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि वास्तव में ऊर्जा ही हमारा जीवन है। कल्पना कीजिए कि ऊर्जा के बिना दुनिया कैसी होगी। ऊर्जा के अभाव में पूरी दुनिया थम जाएगी। कृषि, उद्योग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी से लेकर परिवहन तक सब कुछ ऊर्जा पर निर्भर करता है, दूसरे शब्दों में, हमारे जीवन की आवश्यकता बन गई है। ऊर्जा के महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रति व्यक्ति ऊर्जा की खपत ही यह तय करती है कि किसी देश का कितना विकास हुआ है।
हालाँकि, विश्व अब स्पष्ट रूप से ग्लोबल वार्मिंग की समस्या के कारण नई सदी में उपयोग किए जा रहे ऊर्जा के स्रोतों पर बहस कर रहा है। मुख्य रूप से व्यापक पैमाने पर पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों के उपयोग के कारण ग्लोबल वार्मिंग के कारण पृथ्वी ग्रह संकट का सामना कर रहा है। इसे देखते हुए ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से निपटने के लिए पूरी दुनिया गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों पर ध्यान दे रही है। ध्यान ऐसे गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों पर है जो न्यूनतम या नगण्य प्रदूषण का कारण बनते हैं। इस प्रयास के तहत दुनिया हरित ऊर्जा का विकल्प तलाश रही है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इस दिशा में भारत की सक्रियता भविष्य के लिए शुभ संकेत है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने हरित ऊर्जा के उत्पादन के मामले में वैश्विक अवसरों की सही पहचान की है और उन्हें देखा है। इसका प्रमाण 25 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में पीएम मोदी की स्पष्ट घोषणा है कि भारत 450 गीगावॉट अक्षय ऊर्जा लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है। न्यूयॉर्क में वठॠअ के 76वें सत्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने यह भी कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा ग्रीन हाइड्रोजन हब बन जाएगा। इससे पहले, इस साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर, पीएम मोदी ने जलवायु परिवर्तन शमन में भारत के प्रयासों को मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन के लिए प्रतिबद्ध किया। दरअसल, पीएम मोदी चाहते हैं कि भारत हरित हाइड्रोजन उत्पादन और निर्यात का एक प्रमुख वैश्विक केंद्र बने। पीएम चाहते हैं कि देश 2047 तक ऊर्जा से मुक्त हो जाए।
राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन (एनएचएम) का विचार पहली बार 2021 के बजट में पेश किया गया था, जिसमें हाइड्रोजन के निर्माण के लिए हरित ऊर्जा स्रोतों को टैप करने का प्रयास किया गया था। एनएचएम की घोषणा के बाद, कई निजी कंपनियों और इंडियन आॅयल और एनटीपीसी जैसी सरकारी फर्मों ने इस मिशन में बड़ा निवेश करने का फैसला किया। गौरतलब है कि भारत सरकार ने 2024 तक हाइड्रोजन अनुसंधान पर लगभग 800 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बनाई है। केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा: ह्लहम 40 प्रतिशत गैर-जीवाश्म उपयोग हासिल करने का इरादा रखते हैं। 2030, देश की वर्तमान स्थिति में सुधार लाने और जिम्मेदार जीवन के मार्ग को सुगम बनाने के लिए हरित हाइड्रोजन पारिस्थितिकी तंत्र की स्थापना की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठा रहा है।” निश्चित रूप से इसके लिए हरा हाइड्रोजन सबसे अच्छा विकल्प है। ग्रीन हाइड्रोजन न केवल भारत के लिए बल्कि ग्लोबल वार्मिंग और प्रदूषण जैसी समस्याओं से जूझ रहे पूरे विश्व के लिए आशा की किरण है। मंत्री ने कहा कि अभी जीवाश्म से हमारी ऊर्जा उत्पादन 150 गीगावाट है, जो कुल उत्पादन का 39 प्रतिशत है।

भारत ने 2022 तक 175 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा प्राप्त करने का लक्ष्य रखा है, जबकि 2030 तक 450 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा प्राप्त करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसका सबसे बड़ा हिस्सा हाइड्रोजन ऊर्जा का होगा। जैसा कि अश्विनी चौबे ने कहा, “हम चाहते हैं कि भारत हाइड्रोजन उत्पादन के क्षेत्र में दुनिया में अग्रणी हो। यह न केवल आर्थिक दृष्टि से भारत के लिए बल्कि हरित ऊर्जा क्षेत्रों में दुनिया के लिए भी अच्छा होगा। दुनिया भर के विशेषज्ञों का दृढ़ विश्वास है कि आने वाला युग ग्रीन हाइड्रोजन का होगा जो मौजूदा पारंपरिक स्रोतों जैसे पेट्रोल और डीजल से सस्ता होगा। दुनिया भर में तकनीक के क्षेत्र में युद्धस्तर पर क्रांतिकारी बदलाव देखने को मिल रहे हैं। किए जा रहे प्रयासों को देखते हुए, वह दिन दूर नहीं जब कारों के अलावा बड़े वाहन हरे हाइड्रोजन पर चलेंगे।
यह देखने के लिए तकनीकी अनुसंधान चल रहा है कि कैसे विमानों और ट्रेनों में हरित ईंधन का उपयोग किया जा सकता है। इस तरह के बदलाव से, जो देश सही समय पर खुद को हरित ऊर्जा केंद्र के रूप में विकसित करेगा, वह लाभ पाने के लिए बेहतर स्थिति में होगा। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि इस समय दुनिया भर में हरित हाइड्रोजन पर बहस चल रही है। हरित हाइड्रोजन भविष्य का ईंधन होने पर विशेषज्ञ एकमत हैं।
एनएचएम के बारे में पीएम मोदी की घोषणा के बाद, कई सरकारी और गैर-सरकारी फर्मों ने ग्रीन हाइड्रोजन के उत्पादन और उपयोग की तैयारी शुरू कर दी है। अभी तक इंडियन आॅयल और एनटीपीसी सरकारी कंपनियां हैं, जबकि रिलायंस, टाटा और अदानी समूह निजी कंपनियां हैं जिन्होंने इस दिशा में ठोस कदम उठाना शुरू कर दिया है। दिल्ली में लगभग 50 डीटीसी बसों को प्रायोगिक आधार पर हाइड्रोजन के साथ मिश्रित सीएनजी पर संचालित किया जा रहा है। अब, इस समय जो अनिवार्य है वह यह जानना है कि देश में हाइड्रोजन गैस का उत्पादन कैसे हो रहा है और इसका उपयोग कैसे किया जाएगा। फिलहाल इसे बनाने के लिए दो तरीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है। पहली विधि में पानी के इलेक्ट्रोलिसिस के माध्यम से हाइड्रोजन गैस उत्पन्न होती है जिसमें हाइड्रोजन को पानी से अलग किया जाता है।

दूसरी विधि में, हाइड्रोजन और कार्बन को प्राकृतिक गैस से अलग किया जाता है, फिर हाइड्रोजन गैस को अलग से निकाला जाता है और शेष कार्बन का उपयोग आॅटो, इलेक्ट्रॉनिक और एयरोस्पेस क्षेत्रों में किया जाता है। अगर देश हाइड्रोजन उत्पादन के क्षेत्र में सही दिशा में आगे बढ़ता है तो आजादी के 100वें वर्ष में भारत को ऊर्जा के मामले में आत्मनिर्भर बनाने का लक्ष्य आसानी से हासिल किया जा सकता है। इस ईंधन का उपयोग करना काफी आसान है। इसका इस्तेमाल करने के लिए वाहनों में फ्यूल सेल्स लगाना जरूरी है। ईंधन कोशिकाओं में कैथोड और एनोड नामक इलेक्ट्रोड होते हैं। इन इलेक्ट्रोडों की मदद से रासायनिक प्रतिक्रियाएं होती हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऊर्जा उत्पन्न होती है। वास्तव में, ईंधन सेल हाइड्रोजन गैस की खपत करेंगे और परिणामस्वरूप ऊर्जा का उत्पादन करेंगे। गैस के उपयोग के बाद जो बचा है वह पानी है। खास बात यह है कि इससे धुआं नहीं निकलता है। हाइड्रोजन गैस के उत्पादन के लिए परमाणु ऊर्जा, बायोमास, सौर और पवन ऊर्जा का उपयोग किया जाएगा। इस ऊर्जा का उपयोग वाहनों और कारों के अलावा घरेलू बिजली आपूर्ति में किया जाएगा।

हाइड्रोजन उत्पादन के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अवसरों का सृजन होने जा रहा है, इसके बारे में दुनिया को पता है। भारत ने इस क्षेत्र में काफी समय से पहल की है। लेकिन इस तरह से चुनौतियां भी हैं। जापान, जर्मनी और कुछ यूरोपीय संघ के देशों जैसे देशों ने इस क्षेत्र में व्यापक संभावनाओं को देखते हुए हाइड्रोजन नीति की घोषणा की है। भारत को ऊर्जा उत्पादन के इस क्षेत्र में खुद को एक नेता के रूप में स्थापित करने के लिए सभी चुनौतियों से निपटना होगा। उदाहरण के लिए, इसके उत्पादन की लागत सबसे बड़ी चुनौती है। वर्तमान में हाइड्रोजन उत्पादन की लागत छह से आठ अमेरिकी डॉलर प्रति किलोग्राम है, जो अन्य ऊर्जा स्रोतों की तुलना में अधिक है। दूसरी चुनौती हाइड्रोजन के लिए परिवहन व्यवस्था है। इसके परिवहन और भंडारण की लागत अन्य ईंधन की तुलना में अधिक है। भारत को 2030 तक 450 ॠह के अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हर साल 30-40 ॠह की अक्षय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने की आवश्यकता है। इसके लिए, सरकार को दूरगामी महत्व के उपायों को अपनाना होगा। बुनियादी ढांचे का निर्माण तुरंत शुरू करने की जरूरत है।

Read More :Aryan Khan Drugs Case पर बोले Shatrughan Sinha- शाहरुख से बदला निकाल रहे हैं कुछ लोग

Connact Us: Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE