Saturday, November 27, 2021
HomeHealthProtein Sources : 250% ज्यादा प्रोटीन देगी मक्का की नई प्रजाति, मीट-अंडा-सप्लीमेंट्स पर...

Protein Sources : 250% ज्यादा प्रोटीन देगी मक्का की नई प्रजाति, मीट-अंडा-सप्लीमेंट्स पर नहीं रहना होगा निर्भर

Protein Sources : शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए अब मांस, अंडा, दूध सहित महंगे पाउडर पर निर्भर नहीं रहना होगा। क्योंकि इंडियन साइंटिस्टों ने हमारे खेत में ही पैदा होने वाले एक अनाज की खास प्रजाति विकसित की है, जिससे की हमारे शरीर को ज्यादा मात्रा में प्रोटीन मिल सकेगा। जी हां, हम बात कर रहे हैं, मक्का की।

ये तो हम जानते ही हैं कि मक्का खाने से हमारी सेहत को कई तरह के फायदे होते हैं। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन, खनिज (मिनरल्स) और एंटी-ऑक्सिडेंट जैसे कई ऐसे पोषक तत्वों से भरपूर मक्का कई तरह से हमारी डाइट में शामिल होता है। लेकिन अब भारतीय साइंटिस्टों ने मक्का की एक नई प्रजाति (बायोफोर्टिफाइड मक्का) विकसित की है, जिसमें सामान्य मक्का की तुलना में करीब ढ़ाई गुना यानी 250% ज्यादा विशेष प्रकार के प्रोटीन पाए जाते हैं। (Protein Sources)

वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय के साइंटिस्टों ने इस खास प्रजाति की मक्का को ‘मालवीय स्वर्ण मक्का-वन’नाम दिया है। बीएचयू के कृषि विज्ञान संस्थान का यह मक्का आमजन के लिए प्रोटीन का बड़ा स्त्रोत साबित होगा। बायोफोर्टिफाइड मक्का की यह खास प्रजाति प्रो पीके सिंह और मक्का प्रजनन/आनुवंशिकी के प्रोफेसर जेपी शाही ने मिलकर तैयार की है। बता दें कि बायोफोर्टिफाइड का मतलब पौध प्रजनन के जरिये फसलों में पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ाना होता है। (Protein Sources)

क्या कहते हैं जानकार

प्रो.जेपी शाही के मुताबिक इस मक्के में मौजूद अमीनो एसिड लायसिन और टिप्टोफेन के कारण इसका सेवन करने वालों को खून की कमी दूर करने के लिए अलग से आयरन की टैबलेट की जरूरत नहीं होगी। ये शरीर में कैल्शियम और खून बनने की प्रक्रिया को भी तेज करती है। (Protein Sources)

लायसिन और टिप्टोफेन के फायदे

लायसिन एथलीटों के प्रदर्शन को बेहतर करने के साथ डायबिटीज में बेहद उपयोगी है। यह प्रोटीन प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर करने के साथ में आंतों द्वारा कैल्शियम को अवशोषित करने की दर भी बढ़ा देता है। वहीं, टिप्टोफेन शिशुओं के सामान्य विकास के साथ ही प्रोटीन एवं एंजाइम के उत्पादन और संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है।

(Protein Sources)

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

Also Read : 5 Ways to Keep Your Lungs Healthy बढ़ते प्रदूषण में इन तरीके से अपने लंग्स को मजबूत बनाएं

Read More : Designer Anklets ट्रेंडी और पारंपरिक लुक देती हैं डिजाइनर पायल

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

Sameer Sainihttp://indianews.in
Sub Editor @indianews | Quick learner with “can do” attitude | Have good organizing and management skills
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE