Saturday, November 27, 2021
HomeHealthRisk Factors for Epilepsy लंबे समय तक हाई बीपी है रिस्की, दोगुना बढ़...

Risk Factors for Epilepsy लंबे समय तक हाई बीपी है रिस्की, दोगुना बढ़ जाता है मिर्गी का खतरा

Risk Factors for Epilepsy : आजकल के तनाव भरे लाइफस्टाइल में हाई ब्लड प्रेशर होना एक कॉमन बात हो गई है। लेकिन एक नई स्टडी के मुताबिक, हाई ब्लड प्रेशर/हाईपरटेंशन से किसी भी वयस्क में मिर्गी के लक्षण विकसित होने का खतरा दोगुना हो सकता है। ये स्टडी ‘एपिलेप्सिया ऑफिशियल जरनल ऑफ इंटरनेशनल लीग अगेन्स्ट एपिलेप्सी’ में प्रकाशितहुई है। रिसर्चर्स द्वारा ये स्टडी 2,986 लोगों पर की गई, जिनकी औसत आयु 58 वर्ष थी। स्टडी में मिर्गी के 55 नए मामले पाए गए. इन सभी लोगों को पिछले 19 सालों से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या थी।

साइंटिस्टों ने इस रिसर्च के नतीजों के आधार पर निष्कर्ष निकाला कि लंबे समय तक हाई ब्लड प्रेशर रहने से या फिर इसे रोकने वाली दवाइयां खाने से उस मरीज में मिर्गी होने का भी खतरा दोगुना हो जाता है। मिर्गी या एपिलेप्सी एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है जिसमें व्यक्ति को बार-बार दौरे पड़ते हैं। दौरे असामान्य व्यवहार, संवेदना में कमी और कभी-कभी जागरुकता में कमी के रूप में आते हैं। दरअसल, ऐसा ब्रेन की इलेक्ट्रिकल गतिविधि के अचानक बढ़ने या दबाव पड़ने की वजह से होता है। (Risk Factors for Epilepsy)

कैसे हुई स्टडी (Risk Factors for Epilepsy)

बोस्टन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन में हुई रिसर्च के अनुसार, प्रतिभागियों को नॉर्मल ब्लड प्रेशर के साथ छोड़कर उन्हें एंटी हाईपरटेंशन दवा पर रखने के बाद उनमें मिर्गी के लक्षण दिखने का खतरा करीब 2.44 गुना बढ़ गया। हालांकि इस रिसर्च में केवल इन दोनों बीमारियों का आपस में संबंध बताया गया है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि यह होता कैसे है। रिसर्चर्स के अनुसार, दोनों के बीच यह संबंध कैसे होता है यह पता लगाने के लिए और स्टडी की जरूरत है। (Risk Factors for Epilepsy)

मिर्गी की जिम्मेदार स्थितियां

कई स्थितियां मिर्गी के लिए ज़िम्मेदार हो सकती हैं। इसमें शामिल हैं ब्रेन ट्यूमर, सिर में चोट लगना, संक्रमण, स्ट्रोक और जेनेटिक स्थिति। हालांकि बच्चों और व्यस्कों के करीब 70 प्रतिशत मिर्गी के मामलों में किसी कारण का पता नहीं चल पाता है। मिर्गी के लिए ज़िम्मेदार अन्य कारणों में शामिल हैं दवा भूल जाना, तनाव, एंग्जाइटी या उत्साह, हार्मोनल बदलाव, कुछ खाद्य पदार्थ, एल्कोहल और फोटो सेंसिटिविटी। (Risk Factors for Epilepsy)

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

Read More : How to Relieve Itchy Skin त्वचा की खुजली को न करें नजरअंदाज

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

Sameer Sainihttp://indianews.in
Sub Editor @indianews | Quick learner with “can do” attitude | Have good organizing and management skills
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE