Thursday, January 20, 2022
HomeHealth TipsMethi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It : मेथी मलाई...

Methi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It : मेथी मलाई पनीर की रेसिपी और इसे खाने के फायदे

Methi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It

Methi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It : सर्दियों का मौसम खाने के लिहाज से टेस्ट और हेल्थ दोनों के लिए ही मुफीद होता है। इस मौसम में हैवी फूड भी आसानी से डाइजेस्ट(digest) हो जाता है। सर्दियों में मार्केट में मेथी बहुत आती है, इससे जुड़ी डिश खाने का अपना एक अलग ही मजा है। मेथी शरीर को गर्माहट देती है। ऐसे में आप लंच या डिनर में घर पर मेथी मलाई पनीर(Fenugreek ,Cream ,Paneer) की सब्जी बना सकते हैं। इसे मेथी साग और क्रीम को डालकर बनाया जाता है। इसमें प्याज, काजू पेस्ट और मसालों के साथ मेथी साग को भूनकर पनीर के लिए ग्रेवी बनाई जाती है।

मेथी मलाई पनीर बनाने की सामग्री Methi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It

1 गुच्छा मेथी के पत्ते बारीक कटा हुआ
3 टेबलस्पून तेल
1 टीस्पून जीरा
1 तेज पत्ता
1 टेबलस्पून अदरक-लहसुन का पेस्ट
आधा टीस्पून लाल मिर्च पाउडर
1 हरी मिर्च कटा हुआ
1 टीस्पून धनिया पाउडर
आधा टीस्पून हल्दी
2 बड़े टमाटर की प्यूरी
1 टीस्पून चीनी
आधा कप दूध
स्वादानुसार नमक
आधा कप मलाई
आधा कप पानी, आवश्यकतानुसार डालें
11 क्यूब्स पनीर
1 टीस्पून गरम मसाला पाउडर

मेथी मलाई पनीर बनाने के लिए विधि

सबसे पहले, एक बड़े कटोरे में बारीक कटी मेथी की पत्तियां(Fenugreek leaves) लें। और उन पत्तो को नमक डाल कर अच्छे से धो ले,अब पूरी तरह से मेथी पत्तो को निचोड़ लें। अब निचोड़ा हुए मेथी को जब तक तले वे आकार में सिकुड़ नहीं जाते तब। इससे मेथी की कड़वाहट दूर हो जाता है और पकाने में भी मदद करता है। मेथी के पत्तों(Fenugreek leaves) के सिकुड़ने के बाद, उसे कटोरी में निकालें और रख दे, मलाई पनीर की तैयार करे। अब फिर कड़ाई में, तेल गरम करें। जीरा (cumin), तेज पत्ता (bay leaf)डालें और अदरक लहसुन का पेस्ट (cracked garlic paste) और हरी मिर्च (Green chilly) डालें।

जब तक अदरक और लहसुन की गंध गायब न हो जाए तब तक तलें। इसके बाद इसमें बारीक कटे हुए प्याज डालें और थोड़ा सुनहरा भूरा होने तक तलें। अब इसमें मिर्च पाउडर(Chili Powder), हल्दी(Turmeric) और धनिया पाउडर (coriander powder) जैसे मसाले डालें। धीमी आंच पर एक मिनट के लिए तलें। अब उसमें टमाटर प्यूरी डाले, जब तक मसाला तेल छोड़ने न लगे तब तक इसे भी तलें। अब तैयार की गई तली हुई मैथी की पत्तियाँ डालें। इसके बाद मेथी की कड़वाहट को संतुलित करने के लिए चीनी और नमक डाले और एक मिनट के लिए तलें। अब दूध डालें। दूध डालते समय आंच धीमी रखें, नही तो दूध दही जम जाएगा।

क्रीम भी डालें। मेथी मलाई पनीर को अधिक मलाईदार बनाने के लिए क्रीम की मात्रा को बढ़ा सकते है धीमी आंच पर अच्छी तरह मिलाएं। और पनीर डाले और तले,आवश्यकता अनुसार पानी डालें, और ग्रेवी गढ़ा होने दे, अब उसमें गरम मसाला डालें। और ढक्कन ढककर और 2 मिनट के लिए उबालें, ताकि पनीर अच्छी तरह से पक जाए। अब आपका मैथी मलाई पनीर तैयार है, चपाती या पराठे के साथ सर्व करें।

पनीर खाने के फायदे Methi Malai Paneer Recipe and Benefits Of Eating It

ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने के लिए

पनीर के फायदे ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने में भी देखे जा सकते हैं। हाई ब्लड प्रेशर की समस्या आजकल सामान्य हो चुकी है। ऐसे में ब्लड प्रेशर के मरीजों को डाइट का खास ध्यान रखना जरूरी है। अगर हाई बीपी डाइट की बात करें, तो इसमें पनीर को शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है। पनीर हाई बीपी को कम करने में प्रभावकारी हो सकता है। लो फैट और कैल्शियम युक्त डेयरी प्रोडक्ट ब्लड प्रेशर की समस्या में उपयोगी हो सकता है।

दांत और हड्डियों के लिए

बढ़ती उम्र के साथ दांत और हड्डियों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ ये कमजोर होने लगते हैं। ऐसे में दांत व हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए कैल्शियम जरूरी पोषक तत्वों में से एक है। हम डाइट में कैल्शियम को तरह-तरह के खाद्य पदार्थों के जरिए शामिल कर सकते हैं।

इन खाद्य पदार्थों में सबसे पहला नाम डेयरी प्रोडक्ट का आता है। इन डेयरी प्रोडक्ट्स में पनीर भी शामिल है। पनीर को कैल्शियम का अच्छा स्त्रोत माना गया है, ऐसे में पनीर को डाइट में शामिल कर दांत और हड्डियों को स्वस्थ रखा जा सकता है। पनीर बच्चों में दांतों के सड़न के जोखिम को भी कम कर सकता है।

पाचन तंत्र के लिए

पनीर पाचन तंत्र के लिए लाभकारी भी हो सकता है। पाचन को ठीक करने के लिए कई बार प्रोबायोटिक की जरूरत पड़ती है। प्रोबायोटिक्स सूक्ष्मजीव होते हैं, जिनका सेवन फर्मेंटेड खाद्य पदार्थों या सप्लीमेंट्स के जरिए किया जा सकता है।

इन्हीं प्रोबायोटिक्स में लैक्टोबैसिलस नाम का एक बैक्टीरिया होता है, जिसे स्वास्थ्य के लिए अच्छे बैक्टीरिया की श्रेणी में रखा गया है। यह बैक्टीरिया पेट और पाचन के लिए लाभकारी हो सकता है। यह बैक्टीरिया पनीर में भी पाया जाता है। ऐसे में पाचन में सुधार करने के लिए पनीर को डाइट में शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

डायबिटीज में सहायक

डायबिटीज की समस्या से परेशान रहने वाले लोगों में डाइट को लेकर काफी उलझन रहती है। ऐसे में डायबिटीज के मरीज डाइट में पनीर को बेझिझक शामिल कर सकते हैं। हालांकि, कई बार डॉक्टर भी मधुमेह मरीजों को पनीर खाने की सलाह देते हैं।

बच्चों के डाइट में डेयरी प्रोडक्ट को शामिल करने से मोटापे का जोखिम कम हो सकता है, जिससे डायबिटीज जैसी बीमारियों का भी खतरा कुछ हद तक कम हो सकता है। ऐसे में डायबिटीज के जोखिम को कम करने के लिए पनीर को अच्छा हेल्दी विकल्प माना जा सकता है।

 

Read more : Health Tips पांच मजेदार तरीकों से शहद को बना सकते है दैनिक जीवन में डाईट का हिस्सा

Read more : Gooseberry Kernels : आंवला ही नहीं आंवले की गुठली भी है फायदेमंद

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE