Thursday, October 21, 2021
Homeधर्मImportance of Swastika : स्वास्तिक का महत्व

Importance of Swastika : स्वास्तिक का महत्व

Importance of Swastika : स्वस्तिक का चिन्ह हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले स्वास्तिक की पूजा करने का महत्व है। मान्यता है कि ऐसा करने से कार्य सफल होता है। स्वस्तिक चिन्ह को मंगल चिन्ह भी माना जाता है। स्वस्तिक शब्द को ‘सु’ और ‘अस्ति’ का मिश्रण माना गया है। यहाँ ‘सु’ का अर्थ है शुभ और ‘अस्ति’ का अर्थ है होना। अर्थात् स्वास्तिक का मूल अर्थ ‘शुभ’, ‘कल्याण’ है। शुभ कार्य ही कारण है कि किसी भी शुभ कार्य के दौरान स्वस्तिक की पूजा करना अत्यंत आवश्यक माना जाता है। लेकिन स्वास्तिक का यह चिन्ह वास्तव में क्या दर्शाता है, इसके पीछे कई तथ्य हैं।

स्वस्तिक में चार प्रकार की रेखाएँ होती हैं, जिनका आकार समान होता है। चार रेखाएँ माना जाता है कि ये रेखाएँ चार दिशाओं – पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण की ओर इशारा करती हैं। लेकिन हिंदू मान्यताओं के अनुसार ये पंक्तियाँ चार वेदों – ऋग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद और सामवेद का प्रतीक हैं। कुछ का यह भी मानना ​​है कि ये चार रेखाएं ब्रह्मांड के निर्माता भगवान ब्रह्मा के चार सिरों का प्रतिनिधित्व करती हैं। चार देवताओं के प्रतीक के अलावा, इन चार पंक्तियों की तुलना चार पुरुषार्थों, चार आश्रमों, चार लोकों और चार देवताओं यानी भगवान ब्रह्मा, विष्णु, महेश (भगवान शिव) और गणेश से की गई है।

स्वास्तिक की चार रेखाओं के बाद बीच में बने बिंदु को भी विभिन्न मान्यताओं द्वारा परिभाषित किया गया है। मध्य स्थान माना जाता है कि यदि स्वस्तिक की चारों रेखाओं को भगवान ब्रह्मा के चार सिरों के समान माना जाए, तो बीच में परिणामी बिंदु भगवान विष्णु की नाभि है, जिससे भगवान ब्रह्मा प्रकट होते हैं। इसके अलावा यह मध्य भाग संसार के एक धुरा की शुरुआत का भी संकेत देता है। सूर्य देव के प्रतीक स्वस्तिक की चार रेखाएं दक्षिणावर्त दिशा में चलती हैं, जो दुनिया की सही दिशा का प्रतीक है।

हिंदू मान्यताओं के अनुसार यदि स्वस्तिक के चारों ओर एक वृत्ताकार रेखा खींची जाए तो यह सूर्य देव की निशानी मानी जाती है। सूर्य देव जो अपनी ऊर्जा से पूरे विश्व को रोशन करते हैं। बौद्ध धर्म में स्वास्तिक का हिंदू धर्म के अलावा कई अन्य धर्मों में भी महत्व है। बौद्ध धर्म में स्वस्तिक को सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। यह भगवान बुद्ध के पैरों के निशान दिखाता है, इसलिए इसे इतना पवित्र माना जाता है। इतना ही नहीं भगवान बुद्ध के हृदय, हथेली और पैरों में भी स्वस्तिक अंकित है। जैन धर्म में स्वास्तिक वैसे तो हिंदू धर्म में स्वस्तिक का प्रयोग सबसे अधिक माना गया है, लेकिन स्वस्तिक को हिन्दू धर्म से ऊपर मान्यता मिली है तो वह जैन धर्म है।

Also Read : MG Astor भारत में हुई लॉन्च, कीमत 9.78 लाख से शुरू, जानें डिजाइन से फीचर्स तक सारी जानकारी

Also Read : Causes of Heart Diseases : शरीर में आयरन की कमी से हार्ट से जुड़ी बीमारियों का हो सकता है खतरा

Also Read : Hair fall Reasons in Hindi चार बीमारियों के कारण तेजी से झड़ते हैं बाल, इस तरह पहचाने लक्षण

जैन धर्म में हिंदू धर्म से ज्यादा स्वास्तिक का महत्व है। जैन धर्म में यह सातवें जिन का प्रतीक है, जिसे तीर्थंकर सुपार्श्वनाथ के नाम से भी जाना जाता है। श्वेतांबर जैनी स्वास्तिक को अष्ट मंगल का मुख्य प्रतीक मानते हैं। स्वास्तिक चिन्ह हड़प्पा सभ्यता में स्वास्तिक सिंधु घाटी की खुदाई के दौरान मिला था। ऐसा माना जाता है कि हड़प्पा सभ्यता के लोग भी सूर्य पूजा को महत्व देते थे। हड़प्पा सभ्यता के लोगों के ईरान के साथ व्यापारिक संबंध भी थे। जेन्द अवेस्ता में भी सूर्य पूजा का महत्व बताया गया है।

प्राचीन फारस में स्वास्तिक पूजा की प्रथा को सूर्योपासना से जोड़ा गया था, जो एक योग्य तथ्य है। स्वास्तिक को दुनिया भर की विभिन्न मान्यताओं और धर्मों में महत्वपूर्ण माना गया है। भारत में और भी कई धर्म हैं जो शुभ कार्य से पहले स्वस्तिक चिन्ह का उपयोग करना आवश्यक मानते हैं। लेकिन भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में स्वस्तिक का महत्वपूर्ण स्थान है। हम यहां जर्मनी में स्वस्तिक की बात नहीं कर रहे हैं, दुनिया में मौजूद हिंदू मूल के लोगों की बात कर रहे हैं, जो भारत से दूर रहकर, शुभ कार्यों में स्वस्तिक का उपयोग करके दुनिया भर में अपने संस्कारों की छवि फैला रहे हैं, बल्कि वास्तव में स्वास्तिक का भी उपयोग करते हैं भारत के बाहर।

एक अध्ययन के अनुसार जर्मनी में स्वास्तिक का प्रयोग किया जाता है। 1935 में जर्मनी के नाजी वर्षों के दौरान जर्मनी के नाजियों द्वारा स्वस्तिक चिह्न का उपयोग किया गया था, लेकिन यह हिंदू मान्यताओं के बिल्कुल विपरीत था। एक सफेद घेरे में एक काले ‘क्रॉस’ के रूप में निशान का इस्तेमाल किया गया था, जिसका अर्थ है उग्रवाद या स्वतंत्रता।
स्वस्तिक का इस्तेमाल अमेरिकी सेना लेकिन यहां तक ​​​​कि नाजियों से भी बहुत पहले किया जाता था। अमेरिकी सेना ने प्रथम विश्व युद्ध में इस प्रतीक चिन्ह का इस्तेमाल किया था।

1939 तक ब्रिटिश वायु सेना के लड़ाकू विमानों पर निशान का इस्तेमाल किया गया था। जर्मन भाषा और संस्कृत में समानताएं हैं, लेकिन इसकी लोकप्रियता 1930 के आसपास ठप हो गई थी, एक समय जब जर्मनी में नाजियों का उदय हुआ था। उस समय की गई एक रिसर्च में एक बेहद दिलचस्प बात सामने आई थी। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि जर्मन भाषा और संस्कृत में कई समानताएं हैं। इतना ही नहीं, भारतीय और जर्मन दोनों पूर्वज एक ही रहे होंगे और उन्होंने देवताओं जैसी वीर आर्य जाति की परिकल्पना की थी। स्वास्तिक का जोर आर्य चिन्ह के रूप में स्वास्तिक चिन्ह को आर्य चिन्ह के रूप में पालन करने लगा। आर्य जाति इसे अपना गौरवशाली चिन्ह मानती थी।

19वीं सदी के बाद 20वीं सदी के अंत तक इसे नफरत की नजर से देखा जाने लगा। यहूदियों के नाजी नरसंहार के बाद इस प्रतीक को भय और दमन का प्रतीक माना जाता था। निशान पर प्रतिबंध युद्ध समाप्त होने के बाद जर्मनी में प्रतीक पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, और 2007 में जर्मनी ने पूरे यूरोप में इसे प्रतिबंधित करने के लिए एक असफल पहल की। माना जाता है कि स्वस्तिक चिन्ह की यूरोप में गहरी जड़ें हैं। प्राचीन ग्रीस के लोग इसका इस्तेमाल करते थे।
इसका उपयोग पश्चिमी यूरोप में बाल्टिक से लेकर बाल्कन तक देखा गया है। यूक्रेन में एक राष्ट्रीय संग्रहालय है, जो यूरोप के पूर्वी भाग में स्थित है।

इस संग्रहालय में कई स्वस्तिक चिन्ह देखे जा सकते हैं, जो 15 हजार वर्ष तक पुराने हैं। ये सारे तथ्य हमें क्यों बताते हैं कि लाल रंग सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के कोने-कोने में है, स्वस्तिक चिन्ह ने अपनी जगह बना ली है। फिर चाहे वो सकारात्मक हो या नकारात्मक। लेकिन भारत में, स्वस्तिक चिन्ह का सम्मान किया जाता है और अलग तरह से इस्तेमाल किया जाता है। यह जानना बेहद दिलचस्प होगा कि लाल रंग से ही स्वास्तिक ही क्यों बनाया जाता है? लाल रंग का सबसे अधिक महत्व है भारतीय संस्कृति में लाल रंग का सबसे अधिक महत्व है और इसका उपयोग मांगलिक कार्यों में सिंदूर, रोली या कुमकुम के रूप में किया जाता है।

लाल रंग वीरता और विजय का प्रतीक है। लाल रंग प्रेम, रोमांच और साहस को भी दर्शाता है। धार्मिक महत्व के अलावा लाल रंग को वैज्ञानिक दृष्टि से भी सही माना गया है। शारीरिक और मानसिक स्तर लाल रंग व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्तर को जल्दी प्रभावित करता है। यह रंग शक्तिशाली और मूल है। हमारे सौर मंडल के ग्रहों में से एक मंगल भी लाल रंग का है। यह एक ऐसा ग्रह है जो साहस, वीरता, शक्ति और शक्ति के लिए जाना जाता है। ये कुछ कारण हैं जो स्वास्तिक बनाते समय केवल लाल रंग के उपयोग की सलाह देते हैं।

स्वस्तिक के टोटके और उपाय (Importance of Swastika)

वास्तु शास्त्र में स्वस्तिक को वास्तु का प्रतीक माना गया है। इसकी बनावट ऐसी है कि यह हर तरफ से एक जैसी दिखती है। स्वस्तिक का उपयोग घर के वास्तु को ठीक करने के लिए किया जाता है। घर के मुख्य द्वार दोनों पर धातु का स्वस्तिक और बीच में तांबा लगाने से सभी प्रकार के बुरे काम दूर होते हैं। पंचधातु के स्वास्तिक का जीवन बनाने के बाद उसे जीवन में उतारने के बाद फ्रेम पर लगाने से शुभ फल मिलता है। चांदी में नवरत्न लगाकर पूर्व दिशा में लगाने से वास्तु दोष दूर होता है और लक्ष्मी का जन्म होता है।

पहला उपाय (Importance of Swastika)

वास्तु दोषों को दूर करने के लिए 9 अंगुल लंबा और चौड़ा स्वस्तिक सिंदूर निकालने से नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मकता में बदल जाती है।

दूसरा उपाय (Importance of Swastika)

मांगलिक, धार्मिक कार्यों में बनाएं स्वस्तिक: धार्मिक कार्यों में रोली, हल्दी या सिंदूर से बना स्वस्तिक आत्मसात करता है। त्योहारों पर गेट के बाहर रंगोली के साथ कुमकुम, सिंदूर या रंगोली से बनी स्वस्तिक मंगलकारी होती है। इसे बनाकर देवी और देवता घर में प्रवेश करते हैं। गुरु पुष्य या रवि पुष्य में निर्मित स्वस्तिक शांति प्रदान करता है।

तीसरा उपाय (Importance of Swastika)

व्यापार वृद्धि के लिए: यदि आपके व्यापार या दुकान में बिक्री नहीं बढ़ रही है तो गुरुवार के दिन ईशान कोण को गंगाजल से धोकर सूखी हल्दी से स्वास्तिक बनाकर उसकी पूजा करें। इसके बाद गुड़ का आधा तोला लगाएं। इस उपाय से लाभ होगा। कार्यस्थल पर उत्तर दिशा में हल्दी का स्वास्तिक बनाना बहुत ही लाभकारी होता है।

चौथा उपाय (Importance of Swastika)

स्वस्तिक बनाने के बाद उस पर रखी किसी भी देवता की मूर्ति तुरंत प्रसन्न होती है। यदि आप अपने घर में अपने इष्टदेव की पूजा करते हैं, तो उस स्थान पर उनके स्थान पर स्वस्तिक बना लें।

पाँचवाँ उपाय (Importance of Swastika)

देव के स्थान पर स्वस्तिक बनाकर उस पर पंच अनाज या दीपक रखने से मनोवांछित कार्य शीघ्र ही पूर्ण हो जाता है।
इसके अलावा सिद्धम की इच्छा के लिए मंदिर में गाय के गोबर या कंकू से उल्टा स्वास्तिक बनाया जाता है। फिर जब मनोकामना पूरी हो जाती है, तब सीधा स्वस्तिक बनाया जाता है।

छठा उपाय (Importance of Swastika)

खुशी से सोने के लिए: अगर आप रात में बेचैन रहते हैं। अगर आपको नींद नहीं आती या बुरे सपने आते हैं तो सोने से पहले तर्जनी से स्वस्तिक बनाकर सो जाएं। इस उपाय से नींद में सुधार होगा।

सातवां उपाय (Importance of Swastika)

संजा में स्वस्तिक: पितृ पक्ष की लड़कियां संजा बनाते समय गाय के गोबर से स्वास्तिक बनाती हैं। इससे घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है और पितरों का भी भला होता है।

लाभ के लिए आठवां उपाय (Importance of Swastika)

रोज सुबह उठकर निश्चिंत होकर सोचें कि लक्ष्मी आने वाली है। इसके लिए घर की सफाई कर स्नान से निवृत्त होकर वातावरण को सुगन्धित करें। फिर भगवान की पूजा करने के बाद अंत में देहली की पूजा करें। देहली के दोनों ओर स्वास्तिक बनाकर उसकी पूजा करें। स्वस्तिक के ऊपर चावल का ढेर बना लें और प्रत्येक सुपारी पर कलवा बांधकर ढेरी के ऊपर रख दें। इस उपाय से लाभ होगा।

नौवां उपाय (Importance of Swastika)

लाल और पीले रंग का स्वस्तिक बहुत शुभ होता है: ज्यादातर लोग हल्दी से स्वास्तिक बनाते हैं। ईशान या उत्तर दिशा की दीवार पर पीला स्वस्तिक बनाने से घर में सुख-शांति बनी रहती है। अगर आप कोई मांगलिक कार्य करने जा रहे हैं तो लाल रंग का स्वस्तिक बना लें। इसके लिए केसर, सिंदूर, रोली और कुंकुम का प्रयोग करें।

(Importance of Swastika)

Also Read : Benefits of Jumping Jacks : सूर्य नमस्कार से पहले करें जंपिंग जैक्स, सेहत को होगा फायदा

Read Also : How To Sleep Well During Cold जानें, तेज सर्दी-जुकाम में अच्छी नींद कैसे आए

Also Read : Best T20 Bowlers: दुनिया के टॉप 10 गेंदबाज, भारत का एक भी खिलाड़ी नहीं

Read More : पहली बार प्रयोग होगा डीआरएस, आईसीसी की गवर्निंग बॉडी ने की घोषणा

Read Also : Japanese Weight Loss Therapy  इस तरीके से पीए पानी वजन होगा कम

Connect With Us : Twitter Facebook

 

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE