Wednesday, May 18, 2022
HomeKaam Ki Baatस्मार्ट चॉपस्टिक्स की मदद से खाएं खाना, शरीर में नमक की मात्रा...

स्मार्ट चॉपस्टिक्स की मदद से खाएं खाना, शरीर में नमक की मात्रा रहेगी कम

कहते हैं कि ज्यादा नमक खाने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, हृदय रोग, किडनी रोग और स्ट्रोक जैसी खतरनाक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
कोई भी चीज जरूरत से ज्यादा खाई जाए तो वो शरीर के लिए नुकसानदायक ही होती है, जैसे-नमक। कहते हैं कि ज्यादा नमक खाने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, हृदय रोग, किडनी रोग और स्ट्रोक जैसी खतरनाक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इन बीमारियों से बचने के लिए खानपान में नमक की मात्रा कम करना सेहत के लिए सही रहता है। (Electric Chopsticks Will Protect Against Kidney And Heart Diseases) इस स्थिति में स्मार्ट चॉपस्टिक्स मददगार साबित हो सकती हैं। आइए जानते हैं क्या है स्मार्ट चॉपस्टिक्स, कैसे काम करती है।

क्या है चॉपस्टिक्स, कैसे काम करती?

स्मार्ट चॉपस्टिक्स की मदद से खाएं खाना, शरीर में नमक की मात्रा रहेगी कम

  • आजकल के समय में फास्ट फूड के बढ़ते चलन के कारण लोगों की डाइट में नमक की मात्रा बढ़ती जा रही है। जोकि व्यक्ति के दिल और किडनी जैसे अंगों के लिए घातक है। इसी चीज को ध्यान में रखते हुए जापान के वैज्ञानिकों ने ऐसी चॉपस्टिक्स बनाई हैं, जिनके मुंह में जाते ही नमक का स्वाद आने लगेगा। ये स्मार्ट चॉपस्टिक्स मेजी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर होमे मियाशिता और बेवरेज मेकर कंपनी किरिन होल्डिंग्स ने मिलकर डेवलप की हैं।
  • ये स्मार्ट चॉपस्टिक्स असल में इलेक्ट्रिक चॉपस्टिक्स है। बताया जाता है कि जब कोई व्यक्ति इन चॉपस्टिक्स की मदद से खाना खाता है। तब हल्के करेंट के जरिए सोडियम आयन्स (एटम्स) खाने से चॉपस्टिक्स में और फिर चॉपस्टिक्स से मुंह में ट्रांसफर हो जाते हैं। इससे नमक का स्वाद 1.5 गुना तक बढ़ जाता है। चॉपस्टिक्स को एक मिनी कम्प्युटर डिवाइस से जोड़ा गया है, जिसे कलाई में घड़ी की तरह पहना जा सकता है। इस डिवाइस का काम चॉपस्टिक्स को आॅपरेट करना और सोडियम आयन्स को रेगुलेट करना है।
  • जापान में ये स्मार्ट चॉपस्टिक्स बहुत काम की हैं। क्योंकि वहां के खानपान में हमेशा से नमक की मात्रा ज्यादा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की मानें तो एक एडल्ट को रोजाना 5 ग्राम से ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए। हालांकि, जापान में एक अदालत रोजाना औसतन 10 ग्राम नमक खाने का आदी है।

‘टेस्ट द टीवी’ भी बना चुके मियाशिता

रॉयटर्स अनुसार, मियाशिता और उनकी लैब इलेक्ट्रिक चॉपस्टिक्स से पहले एक स्वादिष्ट टीवी स्क्रीन विकसित कर चुके हैं। यह एक ऐसी स्क्रीन है, जिस पर दिख रहे फूड्स को चाटने से आपको उनका स्वाद आ जाएगा। दरअसल, स्क्रीन के साथ लगे कंटेनर में 10 तरह के स्वाद होते हैं। आप टीवी पर जो भी फूड सिलेक्ट करेंगे, उस हिसाब से स्वाद का मिश्रण स्क्रीन पर स्प्रे होकर तैयार हो जाएगा। लोग केवल इस टीवी की मदद से पिज्जा, चॉकलेट और ब्रेड जैसे टेस्टी फूड्स का स्वाद ले सकते हैं।

ये भी पढ़ें :आखिर क्यों हो जाते हैं होंठ काले, जानें उन कारणों को

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

 Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular