Monday, January 24, 2022
HomeNationalWorld Passport Ranking भारत की पासपोर्ट रैंकिंग में सुधार, पाकिस्तानी पासपोर्ट की...

World Passport Ranking भारत की पासपोर्ट रैंकिंग में सुधार, पाकिस्तानी पासपोर्ट की स्थिति बद से बदतर

इंडिया न्यूज़, वॉशिंगटन।

World Passport Ranking विश्व भर में पासपोर्ट रैंकिंग जारी करने वाले संगठन हेनली एंड पार्टनर्स ने 2022 के लिए हेनली पासपोर्ट इंडेक्स जारी किया है। इसमें एक बार फिर जहां  जापान और सिंगापुर के पासपोर्ट को सर्वोच्च स्थान दिया गया है। वहीं भारत के पासपोर्ट (Passport) को पहले के मुकाबले बेहतर श्रेणी देते हुए 83 अंक दिए गए हैं। बता दें कि यह रैंकिंग पहले 90 थी। लेकिन इस बार के इंडेक्स में पाकिस्तान के पासपोर्ट को 108 अंक के साथ बद से बदतर श्रेणी में रखा गया है। जो कि सोमालिया,उत्तर कोरिया और दशकों से जंग की आग में झुलस रहे यमन से भी कम है।

पाकिस्तानी पासपोर्ट की स्थिति बद से बदतर
पाकिस्तानी पासपोर्ट की स्थिति बद से बदतर

कैसे तय होती है रैंकिंग World Passport Ranking

World Passport Ranking रैंकिंग प्रक्रिया साल के शुरुआत में जारी की जाती है। हेनली पासपोर्ट वीजा इंडेक्स की वेबसाइट के अनुसार साल भर का रियल टाइम डेटा अपडेट कर दिया जाता है। इस दौरान एजेंसी वीजा पॉलिसी में किए गए बदलाव भी ध्यान में रखती है। यह सामग्री  संबंधित एजेंसी अंतरराष्ट्रीय यातायात संगठन से हासिल करती है। रैंकिंग का आधार इस बात पर तय किया जाता है कि किसी देश का पासपोर्ट होल्डर कितने दूसरे देशों में बिना पूर्व वीजा के  हासिल किए यात्रा कर सकता है। इसके लिए उसे पहले से वीजा लेने की जरूरत नहीं होगी।

कैसे तय होती है रैंकिंग
कैसे तय होती है रैंकिंग

60 देशों की यात्रा वीजा के बिना कर सकते हैं भारतीय World Passport Ranking

World Passport Ranking 83 वें पायदान पर आते ही भारतीय नागरिक इंडियन पासपोर्ट के सहारे 60 देशों की यात्रा बिना वीजा कर सकते हैं। बता दें कि यह सुविधा पहले 58 देशों तक ही मान्य थी। इस प्रकार शीर्ष पर रहने वाले जापान और सिंगापुर के नागरिक बिना वीजा के ही 192 देशों का भ्रमण कर सकते हैं। सात अंकों (Ranking) में सुधार के बाद भारत की छवि दुनिया के सामने एक मिसाल बन कर उभरी है।

(World Passport Ranking)

Read More: Kartarpur Corridor Dera Baba Nanak करतारपुर कॉरिडोर में उमड़ा भावनाओं का सैलाब, 74 साल बाद दो बिछड़े भाइयों का हुआ मिलन

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

Rakesh Banwal
Sub Editor: @ India news Broadcasting Pvt Ltd. मंजिल की राह में कामयाबी धुंधली नजर आए तो, रास्ता बदलो इरादा नहीं
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE