Friday, October 22, 2021
HomeमनोरंजनShiddat Movie Review

Shiddat Movie Review

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:

Shiddat Movie Review: एक खुशमिजाज लड़का जग्गी (सनी) एक ऐसे व्यक्ति की प्रेम कहानी से प्रेरित है, जिसकी शादी में वह प्रवेश करता है, उसे एक लड़की कार्तिका (राधिका) से प्यार हो जाता है। वह एक स्पोर्ट्स कैंप में उससे मिलता है। जिसके बाद धीरे-धीरे दोनों एक दूसरे के नजदीक आने लगते हैं। उन्हें पता चलता है कि कार्तिका की शादी होने वाली है। मेजर ‘अगर वो मेरी है तो वापस आएगी’, वह उसे जाने देता है और एक अजीब शर्त लगाता है।

अपना मौका लेते हुए वह यह देखने के लिए समुद्रों को तैरने और पहाड़ों को मापने का फैसला करता है (असली के लिए) कि क्या वो अभी भी इंतजार कर रही है। मैं आपको नहीं बता रहा हूं कि वह इंतजार कर रही थी या नहीं! हालांकि राइटर्स श्रीधर राघवन और धीरत रत्तन ने कार्तिका के किरदार को आजाद बनाया है जो अपने फैसले लेना जानती है।

आजकल रोमांटिक फिल्में बदल गई (Shiddat Movie Review)

एक जमाना था जब बॉलीवुड ज्यादातर फिल्में प्रेम कहानियों पर ही बनाया करता था। जिसमें लड़का-लड़की गाना गाते थे। दोनों मां-बाप से लड़ते थे। किसी की शादी हो जाती थी और कोई एक-दूसरे से बिछड़ कर सैड सॉन्ग सुनता है। यही चलता रहा बॉलीवुड में। साल दर साल ऐसी ही फिल्में आई। समय बदला और कंपीटिशन भी बढ़ा। जहां एक लव स्टोरी वाली फिल्म आती थी वहीं अब रोमांटिक फिल्मों के बढ़ते चलन के कारण स्टोरी लाइन फ्लॉप साबित होने लगी।

ऐसे में एक जमाने बाद आया इम्तियाज अली। जिसने रोमांटिक फिल्मों का स्टाइल ही बदल दिया। इन फिल्मों में हीरो-हीरोइन घरवालों से नहीं एक दूसरे से ही लड़ते हैं। प्रेम कहानियों को एक अलग ही अंदाज में पेश करने का हुनर सिखा है इम्तियाज अली ने। ऐसी ही एक नई फिल्म है Shiddat। जिसका निर्देशन कुनाल देशमुख ने किया है। आइए जानते हैं क्या है इस फिल्म (Shiddat Movie Review) में खास जो इसे औरों से अलग बनाती है।

क्या है फिल्म की कहानी (Shiddat Movie Review)

शिद्दत (Shiddat Movie Review) में हीरो जग्गी (सनी कौशल) जब कार्तिका (राधिका मदान) मुख्य किरदार में है। जिसमें हीरो अपनी हीरोइन को पहली बार स्विमिंग पूल से बाहर आते देखता है और पहली नजर में ही प्यार हो जाता है। जिसके बाद हमारा हीरो हर तरह की कोशिश करता है कि अपनी हीरोइन को इंप्रेस करे। फिल्म के हाफ की शुरूआत हल्की है। डांस, रोमांस, फ्लर्ट सब कुछ है। फिल्म में काफी सस्पेंस है जो आपको सोचने पर मजबूर करेगा। दूसरे पार्ट में धीरे-धीरे आपके जहन में बस जाएगी। वहीं आप भी अपने आप को फिल्म के किरदारों में रखकर देखेंगे।

फिल्म के ट्रेलर में आपको साफ पता लग जाएगा कि हीरो हीरोइन एक दूसरे से प्यार के मामले में कंफ्यूज हैं लेकिन फिल्म आपको काफी मजेदार लगेगी। शिद्दत 1 अक्टूबर को सीधे डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हो चुकी है। कोरोना के कारण यह थियेटर्स में रिलीज नहीं हुई। लव स्टोरी में काम करने वाले कलाकारों को देख आप खुद को हीरो-हीरोइन समझने लग जाएंगे।

डायरेक्शन और म्यूजिक (Shiddat Movie Review)

कुणाल देशमुख के सक्रिय रूप से काम करने के समय में उनका निर्देशन अटका हुआ है। सचिन जिगर का संगीत जोशीला है और भारतीय पॉप संस्कृति के साथ तालमेल बिठाता है। झूठ नहीं बोलने वाला, यहां तक कि मेरे अंदर एक कट्टर रहमान प्रशंसक ने खुद को तीन नंबरों पर थिरकते हुए पाया, जिसमें टाइटल ट्रैक, बारबाड़ियां और प्रतिष्ठित अखियां उड़ीक दिया का गायन शामिल था।

बाकी भी अच्छे हैं लेकिन वास्तव में लंबे समय में उन पर दांव नहीं लगा सकते। कोई मजाक नहीं जब मैंने कहा कि संगीत एल्बम पेप्पीयर है। मैंने यह पूरी समीक्षा बारबाड़ियां के साथ बैकग्राउंड में लिखी थी। शीर्षक ट्रैक “तुझको साजा और अदालत बनालू” लाइन पर समाप्त होता है, मुझे उम्मीद है कि इस लाइन को लिखने में जो जुनून गया था उसका आधा हिस्सा पटकथा को और अधिक बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। शिद्दत (Shiddat Movie Review) एक बेहतरीन एंटरटेनर हो सकती थी।

Also Read : Benefits of Jumping Jacks : सूर्य नमस्कार से पहले करें जंपिंग जैक्स, सेहत को होगा फायदा

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE