Friday, October 22, 2021
Homeहेल्थAlzheimer and covid के साझा खतरे की पहचान करेगा ये Anti Viral...

Alzheimer and covid के साझा खतरे की पहचान करेगा ये Anti Viral जीन

दुनियाभर को अपने चपेट में लेने वाली कोरोना महामारी और पश्चिमी देशों में 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को होने वाली भूलने की बीमारी अल्जाइमर के साझा खतरे की पहचान करने में वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता मिली है।

साइंटिस्टों ने एक ऐसे एंटी वायरल जीन की पहचान की है, जो अल्जाइमर और गंभीर कोरोना संक्रमण के खतरे पर असर डाल सकता है।

ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में हुई स्टडी के अनुसार, अनुमान है कि ओएएस1 नामक जेनेटिक टाइप का जीन 3 से 6 प्रतिशत लोगों में अल्जाइमर (Alzheimer’s) के खतरे को बढ़ा देता है।

स्टडी में ये भी पता चला है कि ये जीन गंभीर कोरोना संक्रमण के खतरे को भी बढ़ा सकता है। इस स्टडी के नतीजों को ब्रेन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

इम्यून सिस्टम में लगभग समान बदलाव

यूसीएल के क्वीन स्क्वायर इंस्टीट्यूट आफ न्यूरोलॉजी और यूके डिमेंशिया रिसर्च इंस्टीट्यूट के प्रमुख रिसर्चर डॉ. डेर्विस सालिह का कहना है कि अल्जाइमर बीमारी मुख्य रूप से ब्रेन में हानिकारक एमलाइड प्रोटीन के जमा होने से होती है।

ब्रेन में सूजन भी इसका एक बड़ा कारक बनता है, जो इस बीमारी में प्रतिरक्षा प्रणाली के महत्व को जाहिर करता है। डॉ सालिह ने आगे बताया कि हमने रिसर्च में पाया है कि अल्जाइमर बीमारी और कोरोना वायरस (कोविड-19) दोनों में प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्यून सिस्टम में लगभग समान बदलाव हो सकता है।

जेनेटिक डेटा के आधार निकला निष्कर्ष

डॉ सालिह कहते हैं कि कोरोना के सीरियस इंफेक्शन वाले मरीज के ब्रेन में भी बदलाव हो सकता है। यहां हमने एक जीन की पहचान की है, जो एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया यानी इम्यून रिस्पांस को बढ़ाने में योगदान दे सकता है और इससे अल्जाइमर और कोरोना दोनों का खतरा बढ़ जाएगा। रिसर्चर्स ने यह निष्कर्ष 2,547 लोगों के जेनेटिक डेटा के विश्लेषण के आधार पर निकाला है।

Read More : पहली बार प्रयोग होगा डीआरएस, आईसीसी की गवर्निंग बॉडी ने की घोषणा

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE