Wednesday, May 25, 2022
HomeTrendingआंध्र प्रदेश के गांव में पिशाच ने लगाया लॉकडाउन, दहशत में पूरा...

आंध्र प्रदेश के गांव में पिशाच ने लगाया लॉकडाउन, दहशत में पूरा गांव

इंडिया न्यूज़, नई दिल्ली:
देश को आजाद हुए 75 वर्ष होने वाले हैं। एक तरफ जहां हम चांद और मंगल तक पहुंच चुके हैं। वहीं, दूसरी तरफ देश में कई जगह ऐसी भी हैं जहां आज भी अन्धविश्वास का राज है। ऐसा ही एक वाक्या आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले से आ रहा है। यहां के वेनेलावलसा गांव में पिछले दिनों कुछ लोगों की बुखार आने के बाद मौत हो गई। जिसके बाद से ही पूरा गांव इस दहशत में है कि ये काम मांस खाने वाले पिशाच का है।

उसी पिशाच से छुटकारा पाने गांव में बीती 17 से 25 अप्रैल तक सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है। यह लॉकडाउन इतना सख्त है जितना कोरोना काल में सरकार ने भी नहीं लगाया था। लॉकडाउन में न तो बाहर का कोई व्यक्ति गांव में आ सकता था न ही कोई गांव से कोई बाहर जा सकता था।

गांव में बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर प्रतिबन्ध

पिशाच की वजह से लॉकडाउन लगाने वाला यह गांव श्रीकाकुलम जिले के सरुबुज्जिली मंडल के अंतर्गत स्थित है। इसकी बॉर्डर ओडिशा से लगी हुई है। ग्रामीणों का मानना ​​है कि ये लॉकडाउन बुरी आत्माओं के खिलाफ असरदार रहेगा। गांव में सरकारी कार्यालय भी बंद रहा। गांव में कोई एंट्री न कर सके इसके लिए बाड़ लगाई थी। यहां तक ​​कि स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र भी बंद कर दिए गए, क्योंकि कर्मचारियों, मेडिकल स्टाफ और टीचर्स को गांव में आने की परमिशन नहीं थी।

गांव के चारों तरफ नींबू की बाड़

ग्रामीणों का मानना ​​है कि लोगों की मौत बुरी आत्माओं के कारण हुई है जो गांव में घूम रही हैं। गांव के बुजुर्गों ने कथित तौर पर ओडिशा और पड़ोसी विजयनगरम जिले के पुजारियों से सलाह ली, जिन्होंने लॉकडाउन का सुझाव दिया। पुजारियों की सलाह के बाद गांव की चारों दिशाओं में नींबू लगाए गए और 17 से 25 अप्रैल तक लॉकडाउन लागू किया गया।

ये भी पढ़ें : दूसरे राज्यों में कोरोना के केस बढ़ने के बाद पंजाब सरकार भी हुई अलर्ट, मास्क को लेकर जारी की ये गाइडलाइन

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
Vaibhav Shukla
Research, Write and Report – that’s my job | Sports Enthusiast | Working With @IndiaNews_itv @itvnetworkin | Life is Pareto 80/20
RELATED ARTICLES

Most Popular