Friday, December 3, 2021
HomeUttar PradeshAAP-Samajwadi Party Alliance बिगड़ सकता है भाजपा का समीकरण

AAP-Samajwadi Party Alliance बिगड़ सकता है भाजपा का समीकरण

AAP-Samajwadi Party Alliance

इंडिया न्यूज़ लखनऊ

AAP-Samajwadi Party Alliance: उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। चुनाव से पहले यूपी की राजनीति में उथल पुथल भी शुरू हो गई है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव से आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी संजय सिंह ने मुलाकात कर उत्तर प्रदेश की सियासत में गर्माहट ला दी है। ऐसे में हो सकता है कि सपा और आप आगामी वर्ष में होने वाले चुनावों में एक साथ आ जाएं। अगर ऐसा हुआ तो निश्चित ही भाजपा के लिए खतरे की घंटी हो सकती है। बहरहाल कई पार्टियों के विधायक व नेता अपनी पार्टियों को अलविदा कह भविष्य की चिंता करते हुए खेमा बदलते नजर आ रहे हैं। हाल ही की बात करें तो समाजवादी पार्टी में बहुजन समाज पार्टी के कई नेता हाथी छोड़ साइकिल की सवारी करने के लिए सपा में शामिल हो गए हैं। वहीं कांग्रेस भी इस बार का उत्तर प्रदेश चुनाव अपने दम पर लड़ने की घोषणा कर चुकी है। हालांकि पिछले दिनों कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी बीएसपी सुप्रीमो से मुलाकात कर चुकी हैं। लेकिन इस मुलाकात को लेकर दोनों में से किसी ने भी पत्ते नहीं खोले हैं।

बिगड़ सकता है भाजपा का समीकरण (AAP-Samajwadi Party Alliance)

Read More : Government Will Buy 5 Lakh Tablets : मुख्यमंत्री ने 11वीं और 12वीं के विद्यार्थियों को दी सौगात, जल्द मिलेंगे टैबलेट

AAP-Samajwadi Party Alliance: यूपी 2022 के विधानसभा चुनाव में सभी राजनीतिक पार्टियों की एक ही मंशा है कि राज्य से योगी सरकार को बाहर का रास्ता कैसे दिखाया जाए। भाजपा को उत्तर प्रदेश में हराने के लिए एक तरफ जहां राष्टÑीय स्तर की पार्टियां समीकरण बिठाने की कोशिशों में लगी हुई हैं। वहीं क्षेत्रिय पार्टियां भी योगी सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती हैं।

जानिए क्यों है यूपी अहम… (AAP-Samajwadi Party Alliance)

Read More Firing On Two Youths : रोहतक में दो युवकों पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई

AAP-Samajwadi Party Alliance: कहते हैं कि दिल्ली के तख्तोताज का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजनीति दिल्ली सिंहासन की आधारशीला रखती आई है। ऐसे में जग जाहिर है कि उत्तर प्रदेश को जीतने के लिए हर पार्टी एड़ी चोटी का जोर लगा देती है। इसी बात को मद्देनजर रखते हुए भाजपा उत्तर प्रदेश को जीतने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती। हालांकि चुनाव का नतीज क्या रंग लाएंगे इसके बारे में सभी पार्टियां अपनी ताल ठोकती नजर आ रही हैं।

Also Read : Cruelty With Son In Chittaurgarh बच्चे को लटकाया उल्टा

Connect With Us:-  Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE