Tuesday, November 30, 2021
HomeUttar PradeshTrain Accident न लगे होते हेडफोन तो बच जाती जान

Train Accident न लगे होते हेडफोन तो बच जाती जान

Train Accident

इंडिया न्यूज़ मथुरा

वैसे तो अक्सर आपने लोगों को मोबाइल पर गेम खेलते हुए देखा होगा। लेकिन कुछ लोग मोबाइल में इतना खो जाते हैं कि उन्हें आस-पास मंडरा रहे खतरे का भी आभास नहीं होता और नादानी में अपने जान गंवा बैठते हैं। ऐसा ही एक दर्दनाक हादसा आज सुबह करीब सात बजे मथुरा में हुआ। जहां दो दोस्त रेल की पटरियों पर टहलते हुए जा रहे थे। जिनमें से एक पबजी में मशगूल था और दूसरे युवक ने कानों में हेडफोन  लगा रखे थे। उसी ट्रैक पर ट्रेन आ रही थी जो हॉर्न बजाते हुए बेखबर युवकों को पटरी से हट जाने का संकेत दे रही थी। लेकिन दोनों दोस्त कपिल और गौरव मोबाइल में इतने व्यस्त थे कि उन्हें कोई आवाज ही सुनाई नहीं दी। और वह रेल हादसे का शिकार हो गए।

नाबालिग थे दोनों मृतक(Train Accident)

जानकारी के अनुसार युवकों की शिनाख्त यमुनापार के 16 वर्षीय गौरव और कालिंदी कुंज के 18 वर्षीय कपिल के रूप में हुई है। यह दोनों युवक लक्ष्मी नगर स्थित सीएनजी पंप के पीछे से जा रही मथुरा-कासगंज रेलवे लाइन पर टहलने गए थे। जब यह हादसा हुआ उस समय वहां इनके अलावा कोई न था। कुछ देर के बाद जब लोग घूमने के लिए इधर से गुजरे तो युवकों की लाश देखकर हैरान रह गए और पुलिस को घटना की सूचना दी।

न लगे होते हेडफोन तो बच जाती जान(Train Accident)

मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों युवकों के शव कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। वहीं शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। यमुनापार थानाध्यक्ष शशि प्रकाश शर्मा के अनुसार दोनों युवकों के कानों में हेडफोन लगे हुए थे। वहीं एक युवक के मोबाइल में पबजी चल रही थी। पुलिस का मानना है कि हेडफोन लगे होने के कारण युवकों को ट्रेन आने का पता नहीं चला होगा और वह हादसे का शिकार हो गए।

परिवार में मातम(Train Accident)

दोनों युवकों के मरने की खबर जैसे ही पुलिस ने मृतकों के परिजनों को दी, दोनों परिवारों में चीख पुकार मच गई। युवकों की मौत की खबर पूरी कॉलोनी में आग की तरह फैल गई और लोग शोकाकुल परिवार को ढांढस बांधने के लिए पहुंचने लगे। लेकिन परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। परिवार उस घड़ी को कोस रहे हैं जब वह घर से बाहर निकले थे। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि अगर हेडफोन न लगे होते तो शायद यह हादसा नहीं होता।

Also Read : Priyanka Gandhi ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, लखीमपुर हिंसा के पीड़ितों को न्याय दिलाने की मांग

Connect With Us:-  Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE