ऋषि वशिष्ठ ने ऐसा क्या पूछ लिया कि रोने लगे भरत?

एक बार गुरू वशिष्ठ ने राम और उनके भाईयों से एक प्रश्न किया। प्रश्न का जवाब तो तीनों भाईयोे ने दिया पर भरत रोने लगे।

पहले शत्रुघ्न से पूछा गुरू वशिष्ठ ने, "संसार में सबसे अनमोल क्या है?" शत्रुघ्न ने तुरंत उत्तर दिया और कहा "वीरताई(वीरता) के समान और कुछ नहीं है गुरुवर"

अब लक्ष्मण से पूछा गया, लक्ष्मण ने उत्तर दिया और कहा "मेरी सीता भाभी के समान और कोई नहीं है गुरुवर"

अब राम की बारी थी, राम ने कहा "जग की भलाई के समान और कुछ नहीं है"

जब भरत से पूछा गुरू वशिष्ठ ने तो भरत फूट-फूट कर रोने लगे और उत्तर न दे सके, भरत तो उत्तर नहीं दे पाए पर उनके आंसुओं ने उत्तर दे दिया।

भरत के आंसुओं को देखकर गुरू वशिष्ठ को अपना उत्तर मिल गया। उनके आंसुओं ने कहा, "मेरे राम भईया के समान और कोई भी नहीं है, वे ही सबसे अनमोेल हैं।"