होम / Mahadev Bets Scam: पूर्व सीएम Bhupesh Baghel को लगा बड़ा झटका, महादेव सट्टेबाजी घोटाले में एफआईआर दर्ज

Mahadev Bets Scam: पूर्व सीएम Bhupesh Baghel को लगा बड़ा झटका, महादेव सट्टेबाजी घोटाले में एफआईआर दर्ज

Raunak Kumar • LAST UPDATED : March 17, 2024, 11:25 am IST

India News (इंडिया न्यूज़), Mahadev Bets Scam: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को महादेव ऑनलाइन बुक ऐप घोटाले में बड़ा झटका लगा है। इस मामले में छत्तीसगढ़ पुलिस के द्वारा उन्हें आरोपी के रूप में नामित कर मामला दर्ज किया गया है। इस ऐप का अनुमानित कीमत ₹6,000 करोड़ है, वहीं लोकसभा चुनाव से पहले ये मामला कांग्रेस नेता के लिए कई समस्याएं पैदा कर सकता है। बघेल पर पुलिस के एफआईआर में आईपीसी के तहत धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश, विश्वासघात और जालसाजी से संबंधित विभिन्न धाराओं और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 और 11 के तहत आरोप लगाया गया हैं। वहीं इस एफआईआर में भूपेश बघेल के अलावा महादेव ऐप के प्रमोटर सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल समेत 16 अन्य लोगों का नाम शामिल है।

महादेव ऐप को फायदा पहुंचने का आरोप

बता दें कि, इसी साल 8 और 30 जनवरी को प्रवर्तन निदेशालय के द्वारा राज्य पुलिस को दो रिपोर्ट भेजे जाने के बाद बघेल के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया। दरअसल, ईडी के रिपोर्ट में कहा गया है कि धन संरक्षण के बदले महादेव ऐप की अवैध गतिविधियों को अनुमति देने के लिए राज्य सरकार के शीर्ष स्तर के पदाधिकारियों की संलिप्तता का खुलासा करता है। गौरतलब है कि, पिछले साल नवंबर में वित्तीय अपराध जांच एजेंसी ने आरोप लगाया था कि चंद्राकर और उप्पल ने बघेल को ₹508 करोड़ की रिश्वत दी थी।वर्तमान में दोनों संयुक्त अरब अमीरात की देखरेख में हिरासत में हैं। भारतीय विदेश मंत्रालय के माध्यम से उनके प्रत्यर्पण के लिए अनुरोध पहले ही संयुक्त अरब अमीरात भेजा जा चुका है।

ये भी पढ़े:- Indian Navy: भारतीय नौसेना समुद्री लुटेरों के लिए बनी आफत, जहाजों के लूटने का प्रयास अब विफल

बघेल की बढ़ सकती है मुश्किलें

छत्तीसगढ़ पुलिस ने इस मामले एफआईआर दर कर लिया है। जिसमें कहा गया है कि महादेव बुक ऐप के प्रमोटरों के द्वारा विभिन्न पुलिस अधिकारियों, प्रशासनिक अधिकारियों और प्रभावशाली राजनीतिक व्यक्तियों को भारी मात्रा में रिश्वत दिया था। ताकि उनकी अवैध गतिविधियों पर पुलिस कोई कार्रवाई न करें। ऐप के प्रमोटरों ने आला अधिकारियों को यह पैसा हवाला ऑपरेटरों के जरिए भेजवाता था। पुलिस के एफआईआर में आगे कहा गया है कि अवैध संपत्ति उगाही के लिए आला अधिकारियों के द्वारा आधिकारिक पद का दुरुपयोग किया गया। वहीं इस एफआईआर की सबसे खास बात यह है कि किसी भी वरिष्ठ पुलिस या प्रशासनिक अधिकारी का नाम एफआईआर में नहीं है। खबरों के मुताबिक, छत्तीसगढ़ पुलिस के एफआईआर के आधार पर प्रवर्तन निर्देशालय एक नया मनी लॉन्ड्रिंग मामला भूपेश बघेल के नाम पर दर्ज कर सकता है।

ये भी पढ़े:- Lok Sabha Chunav: वोटिंग की डेट आते ही लागू हुई ‘आदर्श आचार संहिता’, चुनाव आयोग ने सभी को दिए सख्त निर्देश

लेटेस्ट खबरें

Turkey-Hamas Relations: इजरायल के साथ युद्ध के बीच हमास प्रमुख करेंगे तुर्की का दौरा, तुर्की के राष्ट्रपति ने दी जानकारी
US-Italy Relations: अमेरिका-इटली आए एक साथ, गलत सूचना के प्रसार को रोकने के लिए साथ में करेंगे काम
NABARD Recruitment 2024: NABARD में निकला जॉब करने का सुनहरा मौका, 100000 की सैलरी वाली नौकरी के लिए यहां करें आवेदन
Salman Khan Firing Case: बांद्रा में शूटिंग से कुछ घंटे पहले ही आरोपियों को दी गई थी बंदूक, सलमान खान केस में बड़ा खुलासा
महिंद्रा थार को टक्कर देने आ रही Jeep की मिनी एसयूवी, लुक और फीचर्स देख चौंक जाएंगे आप
Indonesia Volcano: इंडोनेशिया का रुआंग ज्वालामुखी का वीडियो वायरल, उगल रहा है लाल राख, लावा और धुआं
किताब जैसा Laptop, धमाकेदार के फीचर्स के साथ कमाल का प्रोसेसर