जो व्यक्ति सेवानिवृत्त है या होने जा रहा हो, उसका हमारे देश में कोई मूल्य नही: मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना

इंडिया न्यूज़ (दिल्ली): भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने बुधवार को कहा कि एक व्यक्ति जो सेवानिवृत्त होता है या अपने पेशेवर जीवन से सेवानिवृत्त होने जा रहा हो, उसका भारत में मूल्य कोई नहीं है। एनवी रमना दो दिनों में पद छोड़ने वाले हैं। उनकी यह टिप्पणी चुनाव से पहले राजनीतिक दलों द्वारा दिए जाने वाले मुफ्त उपहारों से संबंधित मामले की सुनवाई के दौरान आई.

कोर्ट इस मुद्दे की जांच के लिए एक समिति गठित करने पर विचार कर रहा है। बुधवार को मामले की सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि ऐसी कमेटी की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज को करनी चाहिए.

विकास सिंह ने कहा, “मैं सुप्रीम कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश को समिति का नेतृत्व करने का सुझाव देता हूँ। जैसे जस्टिस आरएम लोढ़ा ने किया था”

इस पर मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने जवाब दिया, ” जो व्यक्ति सेवानिवृत्त होता है या सेवानिवृत्त होने वाला है, उसका इस देश में कोई मूल्य नहीं है।”

तब विकाश सिंह ने कहा, “यह संबंधित व्यक्ति का व्यक्तित्व है जो प्रभावित करता है।”

मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना को 17 फरवरी 2014 को सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में नियुक्त किया गया था। वह 24 अप्रैल, 2021 को मुख्य न्यायाधीश बने और 26 अगस्त को पद से सेवानिवृत्त होंगे.

SHARE
Latest news
Related news