होम / 40 की उम्र से पहले भी हो सकता हैं Perimenopause, जाने इससे बचाव के लिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स–IndiaNews

40 की उम्र से पहले भी हो सकता हैं Perimenopause, जाने इससे बचाव के लिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स–IndiaNews

Prachi Jain • LAST UPDATED : June 10, 2024, 8:51 pm IST

India News(इंडिया न्यूज), How To Protect Yourself From Perimenopause: पेरिमेनोपॉज (Perimenopause) एक ऐसी अवस्था है जो महिलाओं में मेनोपॉज से पहले होती है और इसमें हार्मोनल बदलाव होने लगते हैं। यह आमतौर पर 40 की उम्र के आसपास शुरू होती है, लेकिन कुछ महिलाओं में यह 40 की उम्र से पहले भी शुरू हो सकती है।

पेरिमेनोपॉज के तीन प्रमुख कारण हैं:

 Protect Yourself From Perimenopause

हार्मोनल असंतुलन: एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के स्तर में बदलाव।

उम्र: आमतौर पर 40 से 50 वर्ष की उम्र के बीच शुरू होता है।

जेनेटिक फैक्टर: परिवार में जल्दी पेरिमेनोपॉज का इतिहास।

पेरिमेनोपॉज के लक्षणों में मासिक धर्म का अनियमित होना, गर्मी के दौरे (हॉट फ्लैशेस), नींद में कठिनाई, मूड स्विंग्स और वजन बढ़ना शामिल हो सकते हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, पेरिमेनोपॉज से बचाव और इसके लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए निम्नलिखित उपाय अपनाए जा सकते हैं:

इन 7 तरीको को अपनाकर करे बचाव:

 Protect Yourself From Perimenopause

1. स्वस्थ आहार

संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करें जिसमें फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और प्रोटीन की प्रचुरता हो। विटामिन D और कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है।

2. नियमित व्यायाम

नियमित व्यायाम हार्मोनल संतुलन बनाए रखने, वजन नियंत्रित करने और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है। योग और मेडिटेशन भी तनाव कम करने में सहायक हो सकते हैं।

3. पर्याप्त नींद

अच्छी नींद पेरिमेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सोने से पहले एक शांत और आरामदायक वातावरण बनाने की कोशिश करें।

4. तनाव प्रबंधन

तनाव हार्मोनल असंतुलन को बढ़ा सकता है। डीप ब्रीदिंग, मेडिटेशन, और रिलैक्सेशन टेक्नीक्स अपनाएं ताकि तनाव को कम किया जा सके।

5. धूम्रपान और शराब से बचें

धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन हार्मोनल असंतुलन को बढ़ा सकता है और पेरिमेनोपॉज के लक्षणों को और भी गंभीर बना सकता है।

6. हाइड्रेशन

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना शरीर को हाइड्रेटेड रखने और कई समस्याओं को दूर रखने में मदद करता है।

7. मेडिकल सलाह

यदि पेरिमेनोपॉज के लक्षण बहुत अधिक गंभीर हों, तो चिकित्सकीय परामर्श लेना आवश्यक है। डॉक्टर हार्मोनल थेरेपी या अन्य उपचारों की सलाह दे सकते हैं।

इन उपायों को अपनाकर पेरिमेनोपॉज के लक्षणों को प्रबंधित किया जा सकता है और इस अवस्था को अधिक सहजता से संभाला जा सकता है।

Get Current Updates on News India, India News, News India sports, News India Health along with News India Entertainment, India Lok Sabha Election and Headlines from India and around the world.

ADVERTISEMENT

लेटेस्ट खबरें

Japan: जापान में फैल रहा घातक मांस खाने वाला बैक्टीरिया, 48 घंटों के भीतर बन रहा मौत का कारण -IndiaNews
Oaks Park: पोर्टलैंड ओक्स पार्क में थ्रिल राइड में खराबी के कारण 28 राइडर्स 30 मिनट तक लटके रहे उल्टा-Indianews
G7 Summit: बिडेन-पोप फ्रांसिस के माथे पर लगी चोट, अर्जेंटीना के माइली ने दी अजीब प्रतिक्रिया -IndiaNews
Israel Army: दक्षिणी गाजा में इजरायली सेना पर बड़ा हमला, मारे गए 8 सैनिक -IndiaNews
Woman Shot Dead in Jersey: अमेरिका में भारतीय मूल के शख्स ने पंजाब की दो महिलाओं पर चलाई गोली, एक की मौत-Indianews
Premier li Giang: चीनी प्रधानमंत्री सात सालों में पहली बार ऑस्ट्रेलिया यात्रा पर, जानें वजह-Indianews
Indian Railways: ‘अब और प्रतीक्षा नहीं,…’, 2032 तक प्रतीक्षा सूची को समाप्त करना भारतीय रेलवे का लक्ष्य -IndiaNews
ADVERTISEMENT