Wednesday, October 20, 2021
HomeTrendingWhat Does Air Quality Index Tell Us कोविड पेशेंट्स के लिए घातक...

What Does Air Quality Index Tell Us कोविड पेशेंट्स के लिए घातक है प्रदूषण

What Does Air Quality Index Tell Us

एयर क्वालिटी इंडेक्स हमें क्या बताता है? क्या कोविड पेशेंट्स के लिए घातक है प्रदूषण?

जैसे-जैसे सर्दियां नजदीक आ रही हैं। AQI एक्यूआई (Air Quality Index) बढ़ने लगा है। दिल्ली में एक्यूआई 322 तक पहुंच गया है। जो इस साल का सबसे ज्यादा है। साथ ही प्रदूषक पीएम (pollutants PM) 2.5 और पीएम 10 हवा में प्रमुख हैं। इसके साथ ही, मानसून के मौसम की वापसी के साथ, दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता लगातार खराब हो रही है क्योंकि एक्यूआई बढ़कर 171 हो गया है।

जानिए एक्यूआई क्या है?

What Does Air Quality Index Tell Us

एक्यूआई (AQI) एक संख्या है जिसका उपयोग जनता को यह बताने के लिए किया जाता है कि वर्तमान में हवा कितनी प्रदूषित है। या इससे कितनी प्रदूषित होने की उम्मीद है। जैसे-जैसे एक्यूआई बढ़ता है, जनसंख्या के एक बड़े प्रतिशत को प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभावों का अनुभव होने की संभावना होती है। अधिकांश विकसित देशों के पास विभिन्न राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानकों के अनुरूप अपने स्वयं के रंग-कोडित वायु गुणवत्ता सूचकांक हैं (colour-coded Air Quality Indices)।

Diwali 2021 Car Offers दिवाली 2021 कार आफर

भारत का कलर कोड सूचकांक या राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक मानक पर्यावरण (National Air Quality Index Standard (NAQI), वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा वर्ष 2014 में लॉन्च किया गया था। यह पहल “स्वच्छता की संस्कृति” को पेश करने के मोदी सरकार के मिशन का एक हिस्सा है। क्योंकि वायु प्रदूषण देश में, विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में एक बड़ी चिंता का विषय रहा है। राष्ट्रीय वायु निगरानी कार्यक्रम (एनएएमपी) The National Air Monitoring Program (NAMP), जो देश के 240 शहरों को कवर करता है, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) Central Pollution Control Board (CPCB) द्वारा संचालित किया गया है और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर (Indian Institute of Technology, Kanpur IIT) द्वारा विकसित किया गया है।

What Does Air Quality Index Tell Us

सूचकांक एक संख्या को ऊपर उठाता है जिसे सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित किया जाता है और लोग जानते हैं-इस नंबर एक संबद्ध रंग कोड के आधार पर- उनकी हवा का स्वास्थ्य क्या है-उनकी वायु गुणवत्ता कितनी अच्छी या खराब है।
पहले, ये प्रदूषण संख्या सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित नहीं की जाती थी।

हमें इसकी जरूरत क्यों है?

भारत में और अधिकांश एशियाई देशों में प्रदूषण के स्रोत असंख्य हैं और अपूर्ण रूप से समझे जाते हैं।
दिल्ली में, उदाहरण के लिए, यह ज्यादातर हल्के और भारी वाहन यातायात उत्सर्जन, सड़क की धूल, हीटिंग और खाना पकाने के लिए ठोस र्इंधन दहन, बायोमास, अपशिष्ट जलने, थर्मल पावर प्लांट, डीजल जनरेटर, निर्माण और छोटे पैमाने के स्थानीय उद्योगों से आता है।

एक्यूआई का उद्देश्य लोगों को यह जानने में मदद करना है कि स्थानीय वायु गुणवत्ता उनके स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती है। इसलिए, प्रत्येक देश और राज्य का अपना एक्यूआई मानक होना चाहिए।

एक्यूआई की गणना कैसे की जाती है?

हालांकि विभिन्न देश वायु गुणवत्ता की रिपोर्ट करने के लिए अलग-अलग पैमानों का उपयोग करते हैं। हालांकि, सूचकांक हर जगह मुख्य रूप से पांच प्रदूषकों के आसपास केंद्रित रहता है – पार्टिकुलेट मैटर जिसका व्यास 10 माइक्रोमीटर (PM10) और 2.5 माइक्रोमीटर (PM2.5), सल्फर डाइआक्साइड, ग्राउंड- से कम होता है। इसके तहत ओजोन (O3), नाइट्रोजन डाइआक्साइड (NO2), और कार्बन मोनोआक्साइड (CO) के स्तर की जानकारी मिलती है।

एक निगरानी स्टेशन से उस समय के लिए एक विशेष प्रदूषक की सांद्रता प्रदान करने की अपेक्षा की जाती है, और समय की अवधि में इसका औसत – CO और O3 के लिए, औसत आठ घंटे से अधिक लिया जाता है, जबकि अन्य तीन के लिए, यह एक है 24 घंटे का औसत। माप की इकाई माइक्रोग्राम (या सीओ के मामले में मिलीग्राम) प्रति घन मीटर है।

भारत ने एक विशेष स्तर के प्रदूषक के लिए उपयुक्त चेतावनी के लिए मानक निर्धारित किए हैं। यहां कोड क्या है:

एक्यूआई मान जितना अधिक होगा, वायु प्रदूषण का स्तर उतना ही अधिक होगा और स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं भी उतनी ही अधिक होंगी। एक्यूआई की अवधारणा पिछले तीन दशकों से व्यापक रूप से उपयोग में है क्योंकि यह वास्तविक समय में वायु गुणवत्ता की जानकारी को शीघ्रता से प्रसारित करती है।

What Does Air Quality Index Tell Us

हर दिन प्रमुख प्रदूषकों की रिकॉर्ड सांद्रता पर नजर रखता है। इन कच्चे मापों को पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (Environmental Protection Agency EPA) द्वारा विकसित मानक फार्मूर्लों का उपयोग करके प्रत्येक प्रदूषक (जमीन-स्तरीय ओजोन, कण प्रदूषण, कार्बन मोनोआॅक्साइड और सल्फ्यूरडायआॅक्साइड) के लिए एक अलग एक्यूआई मान में परिवर्तित किया जाता है। इन एक्यूआई मानों में से उच्चतम को उस दिन के अदक मान के रूप में रिपोर्ट किया जाता है।
सरल शब्दों में, यह समझने के लिए कि एक्यूआई कैसे काम करता है, किसी को केवल छह श्रेणी श्रेणियों (अच्छे, संतोषजनक, मध्यम रूप से प्रदूषित, खराब, बहुत खराब और गंभीर) को जानना होगा और संबंधित स्वास्थ्य प्रभावों की जांच करनी होगी। एक्यूआई श्रेणी और उससे जुड़े प्रदूषकों के आधार पर समाधान लिया जाना चाहिए।

क्या खराब वायु गुणवत्ता कोविड-19 से प्रभावित लोगों को प्रभावित करती है?

हां, ऐसा होता है। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस के साथ मिलकर प्रदूषण इसे और खतरनाक स्थिति बना सकता है। जहां अधिक प्रदूषण होता है, वहां कोविड-19 के तेजी से फैलने की संभावना अधिक होती है, जिससे जीवित रहने की दर कम हो जाती है। कोविड-19 (Covid-19) और धुआं एक खतरनाक संयोजन है, क्योंकि दोनों श्वसन प्रणाली को प्रभावित करते हैं, जिससे वायरस के संपर्क में आने वाले लोग अधिक कमजोर हो जाते हैं।

अध्ययनों से यह भी पता चला है कि खराब वायु गुणवत्ता वाले क्षेत्रों में, यदि वे वायरस से संक्रमित होते हैं तो लोगों के मरने की संभावना अधिक होती है। और खांसी, सांस लेने में कठिनाई और सिरदर्द ऐसे लक्षण हैं जो वायरस और जंगल की आग के धुएं के संपर्क में आने का कारण बन सकते हैं, जिससे यह जानना अधिक कठिन हो जाता है कि स्रोत कौन सा हो सकता है।

क्या मास्क इसमें मदद कर सकता है?

What Does Air Quality Index Tell Us

हां, लेकिन थोड़ा सा। एक एन 95 रेस्पिरेटर मास्क (N95 respirator mask), जिसे ठीक से पहना जाता है, कुछ कणों को फिल्टर कर सकता है। लेकिन यह कार्बन मोनोआक्साइड जैसे जंगल की आग के धुएं में हानिकारक गैसों से बचाने के लिए बहुत कम करता है। हम में से कुछ लोग अब जो ढंग से चेहरे को नहीं ढंकते हैं उनके लिए यह घातक साबित हो सकता है।

India Coal Power Crisis Renewable Energy

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

Amit Guptahttp://indianews.in
Managing Editor @aajsamaaj , @ITVNetworkin | Author of 6 Books, Play and Novel| Workalcholic | Hate Hypocrisy | RTs aren't Endorsements
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE