होम / Election 2024: कालेधन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, 'पारदर्शी' मायाजाल पर ‘रुक जाओ’ आदेश !

Election 2024: कालेधन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, 'पारदर्शी' मायाजाल पर ‘रुक जाओ’ आदेश !

Itvnetwork Team • LAST UPDATED : February 22, 2024, 1:23 pm IST

India News (इंडिया न्यूज), Election 2024, सुधीर एस. रावल: देश में काले धन की चर्चा पिछले कई सालों से चल रही है। मौजूदा केंद्र सरकार जनता के मन में काले धन के खिलाफ लड़ने की उम्मीद जगाकर सत्ता में आई थी। साथ ही 23 मई 2014 के एक फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को एक हफ्ते के भीतर काले धन की जांच के लिए विशेष जांच दल बनाने का आदेश दिया था, इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नई एनडीए सरकार द्वारा इसके शासन के पहेले ही दिन, सर्वोच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश के नेतृत्व में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम गठित की।

कालाधन

2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान यह चर्चा जोरों पर थी कि कभी 25000 करोड़ तो कभी 60000 करोड़ रुपये का काला धन विदेश जा चूका है। देश के नागरिक भी उस समय यह मानने लगे थे कि नई सरकार आएगी तो विदेशों से काला धन वापस आएगा। इतना ही नहीं, तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली कहते रहे कि नोटबंदी कालेधन पर सर्जिकल स्ट्राइक है! अब दस साल बीत गए जब 2024 का लोकसभा चुनाव आ गया तो इस बात की कोई खबर नहीं है कि विदेश से कौन सा काला धन किसके नाम पर है और कितना भारत लाया गया है! काले धन से निपटने के अपने अभियान में केंद्र सरकार का एक और विवादास्पद कदम चुनावी बांड था, जिसे देश के सर्वोच्च न्यायालय ने इस सप्ताह एक ऐतिहासिक फैसले में असंवैधानिक करार दिया।

मुख्य न्यायाधीश डा. वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना, न्यायमूर्ति बी. आर गवई, न्यायमूर्ति जे. बी पारदीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा की पांच जजों की संविधान पीठ ने सर्वसम्मति से फैसला सुनाते हुए चुनावी बॉन्ड योजना को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया। जिससे सरकार और राजनीतिक हलकों में हंगामा मच गया। कोर्ट ने नए बांड जारी करने पर रोक लगा दी है। बांड जारी करने वाले भारतीय स्टेट बैंक को भी यह ब्योरा देने का आदेश दिया गया है कि किसने कितने रुपये के चुनावी बांड खरीदे और किसे ये बांड मिले। अदालत ने कहा कि जनता को किसी राजनीतिक दल को मिले चंदे के बारे में जानकारी जानने का अधिकार है। केंद्र सरकार द्वारा 2018 में शुरू की गई चुनावी बांड योजना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सूचना तक पहुंच के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन करती है।

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने केंद्र सरकार की इस दलील को खारिज कर दिया कि चुनावी बांड योजना काले धन के प्रदूषण को रोकने और राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारदर्शिता लाने के लिए शुरू की गई थी। मुख्य न्यायाधीश डी. वाई चंद्रचूड़ ने स्पष्ट किया कि, 232 पन्नों की पीठ के दो अलग-अलग फैसलों में एक फैसला उन्होंने लिखा था। दूसरा फैसला जस्टिस संजीव खन्ना ने लिखा था, लेकिन दोनों फैसले पर हम सब एकमत हैं। ये निर्णय केवल तर्क के संदर्भ में भिन्न हैं। केंद्र सरकार की योजना को एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स, भारतीय
कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) और कांग्रेस नेता जया ठाकुर सहित कई व्यक्तियों ने अदालत में चुनौती दी थी। इतना ही नहीं, भारतीय चुनाव आयोग और भारतीय रिजर्व बैंक ने भी शुरू से ही आधिकारिक तौर पर इसके खिलाफ रुख अपनाया था।

क्या है यह चुनावी बांड?

यह चुनावी बांड या इलेक्शन बांड एक प्रकार का वचन पत्र होता है। इस बंधन को केवल राजनीतिक दल ही भुना सकते हैं। चुनावी बांड एक हजार, दस हजार, एक लाख, दस लाख और एक करोड़ रुपये के होते हैं। जो व्यक्ति या कंपनी राजनीतिक दलों को योगदान देना चाहता है, वह ये बांड खरीदता है, जिसे वह राजनीतिक दल को दे देता है। यदि राजनीतिक दल 15 दिनों के भीतर इस बांड को भुना नहीं पाता है, तो राशि प्रधान मंत्री राहत कोष में चली जाती है। जब चुनावी बॉन्ड योजना को कानून बनाया जा रहा था, तब चुनाव आयोग ने इस पर आपत्ति जताई थी, लेकिन उस समय केंद्र सरकार ने तर्क दिया था कि ऐसी नई व्यवस्था से राजनीतिक दलों को मिलने वाले चुनावी फंड में पारदर्शिता आएगी, लेकिन छह साल के अनुभव से साबित हो गया है कि पारदर्शिता की आड़ में बनाई गई नई व्यवस्था गूढ़ और अपारदर्शी साबित हुई है।

राजनीतिक दल यह खुलासा करने के लिए बाध्य नहीं हैं कि उन्हें प्राप्त बांड राशि किसने दी ! देश का एक बहुत बड़ा वर्ग चाहता है कि चुनावी बांड खरीदने वालों के नामों का खुलासा किया जाए, ताकि यह पता चल सके कि किसी ने भी चुनाव में किसी भी तरह के लाभ की गणना में तो योगदान नहीं दिया है ? सरकार का तर्क यह रहा कि योगदानकर्ताओं के नाम गुप्त रखने की जरूरत है, क्योंकि अगर पहचान उजागर करेंगे तो अन्य दल उन्हें परेशान करेंगे। सरकार की ओर से पेश किए गए एक आश्चर्यजनक तर्क में सरकार ने यह भी कहा कि लोगों को राजनीतिक दलों को मिलने वाले फंड के बारे में जानने का कोई अधिकार नहीं है! उन्हें यह जानने की आवश्यकता क्यों है? बेशक सुप्रीम कोर्ट ने इस तर्क को पूरी तरह से अमान्य कर दिया है।

ये भी पढ़े:-Byju कंपनी की मुश्किलें बढ़ी,अब ईडी ने जारी किया समन; जानें मामला

केंद्र का विरोधाभासी तर्क

चुनावी बांड के मामले में केंद्र सरकार की तीन चीजें एक-दूसरे से विरोधाभासी हैं, वो हैं गोपनीयता, भ्रष्टाचार
और पारदर्शिता। सबसे पहले, गोपनीयता की बात, सत्ता में रहने वाली पार्टी आसानी से जान सकती है कि
एक निश्चित प्रणाली में चुनावी बांड किसने खरीदा है। क्योंकि यह बांड भारतीय स्टेट बैंक से खरीदा जा सकता है और बांड खरीदने वाले को केवाईसी फॉर्म भरना अनिवार्य है। इसका मतलब यह है कि सरकार यह जान सकती है कि बांड किसने खरीदा है। एक और तर्क, जब सरकार को योगदान के बारे में पता है, तो सत्तारूढ़ दल को योगदान न देने, या कम योगदान देने और विपक्षी दल को अधिक योगदान देने की हिम्मत कौन करता है? दूसरी ओर, सत्ता में रहने वाली पार्टी उन लोगों के प्रति द्वेष रख सकती है जो कम योगदान देते हैं या नहीं!

फिर भी जो आंकड़े सामने आए हैं उसमें साफ है कि सबसे ज्यादा पैसा सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी को मिला है. तीसरी बात है पारदर्शिता, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की एकतरफा और अजीब तरह की पारदर्शिता को खारिज कर दिया है। इस तरह चुनावी बांड मुद्दे पर सरकार को कोर्ट में बड़ा झटका लगा है। पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस. वाई क़ुरैशी का मानना ​​है कि चुनावी बांड सत्तारूढ़ दल, सरकार और कॉर्पोरेट क्षेत्र के बीच गुप्त सांठगांठ को छिपाने में मदद करते हैं। इतना ही नहीं, चुनावी बांड ने इस अर्थ में साठगांठ वाले पूंजीवाद को वैध बना दिया है!

ये भी पढ़े:- Seat Sharing: AAP 4 सीटों पर लड़ सकती है चुनाव, कांग्रेस के 3 सीटों पर लड़ने की संभावना

काले धन का विकट प्रश्न:

जहां तक ​​चुनावों में काले धन के इस्तेमाल का सवाल है तो यह जरूरी है कि भारत अपनी व्यवस्थाओं पर गंभीरता से पुनर्विचार करे। एक अनुमान के मुताबिक पिछले लोकसभा चुनाव में 60,000 करोड़ रुपये खर्च हुए थे, जिसमें मुख्य रूप से काला धन था. विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा किए जाने वाले बेतहाशा खर्चों में, जैसे नेताओं के लिए चार्टर्ड उड़ानें, मेगा रोड शो, रैलियां, इसके अलावा दलबदल और सरकारों को बनाने-गिराने के लिए नेताओं की खरीद-फरोख्त एक गंभीर सवाल है। 30 साल पहले वोरा कमेटी की सिफ़ारिशों में कहा गया था कि नेताओं, अपराधियों और कॉरपोरेट्स की मिलीभगत लोकतंत्र के लिए ख़तरा है। यह चिंता चुनाव सुधारों के लिए इंद्रजीत गुप्ता समिति की सिफ़ारिशों में भी झलकती है, लेकिन यह अनुमान लगाना अभी भी बहुत मुश्किल है कि भारत को काले धन की समस्या को हल करने में कितने साल लगेंगे।

देश का सौभाग्य

हमारे लोकतांत्रिक देश में पारदर्शिता को महत्व दिया जाता है और इसे अधिकतम स्तर पर बनाए रखा जाना चाहिए। इसीलिए भारत में सूचना का अधिकार अधिनियम है, जो देश के नागरिकों को सूचना तक पहुँचने का अधिकार देता है। हालाँकि, आजकल इस आरटीआई कानून को भी कमजोर करने की कोशिश की जा रही है, जो पूरी तरह से अनुचित है। यह अच्छी बात है कि इस देश में कई स्वयंसेवी संगठन, सामाजिक संगठन और नागरिक हैं, जो निस्वार्थ भाव से देशभक्ति के काम में सक्रिय हैं और ऐसे मामलों के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाते हैं।

यह देश का सौभाग्य है कि भारत की अदालतें समय-समय पर लोकतंत्र में हुई गलतियों को सुधारती रहती हैं, जिसका यह फैसला एक महान उदाहरण है। बेशक, यह सवाल अभी भी बना हुआ है कि क्या केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए इस पर विचार करेगी या इसे पलटने के लिए कानूनी उपाय तलाशने की कोशिश करेगी, यह जानने के लिए इंतजार करना होगा।

ये भी पढ़े:-वरुण धवन-जान्हवी कपूर की रोमांटिक कॉमेडी फिल्म को मिला नाम, डायरेक्टर ने शेयर की पोस्ट

लेटेस्ट खबरें