होम / Imposter syndrome: ख़ुद के बारे में आते हैं नेगेटिव थाॅट्स? कहीं आप इस बीमारी के शिकार तो नहीं? जानें लक्षण और बचाव के तरीके

Imposter syndrome: ख़ुद के बारे में आते हैं नेगेटिव थाॅट्स? कहीं आप इस बीमारी के शिकार तो नहीं? जानें लक्षण और बचाव के तरीके

Itvnetwork Team • LAST UPDATED : April 1, 2024, 4:26 pm IST

India News (इंडिया न्यूज़), Imposter syndrome: इंपोस्टर सिंड्रोम एक ऐसी मेंटल हेल्थ प्राॅब्लम है जिसमें इंसान अपनी ही क्षमताओें और सफलताओं पर शक करने लगता है। इस परेशानी से जूझने वाला इंसान डिप्रेशन में भी जा सकता है क्योंकि ऐसी हालत में इंसान के आत्मविश्वास का सूर्य बुझने लगता है और वो नकारात्मक के अंधकार में चलता चला जाता है। इस बीमारी की ख़ास बात तो ये है कि इसे डाॅक्टर भी आसानी से नहीं पकड़ पाते।

आइये जानते हैं इस बीमारी के कुक्ष लक्षण के बारे में

  • बहुत कठिन लक्ष्य को पाने की कोशिश करना और चूक हो जाने पर निराश हो जाना
  • अपनी योग्यता और स्किल की True Value पहचानने में असक्षम
  • स्वयं के काम पर ही शक
  • ख़ुद से कमाई गई सफलता का श्रेय External Factors को देना
  • इस बात का डर होना कि दूसरों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाएगा

Panic Attack Treatment: क्या अक्सर आते हैं पैनिक अटैक, ऐसे करें कंट्रोल 

ये बीमारी लगती तो सरल है पर है जटिल लेकिन ऐसा नहीं है कि इससे बचने का कोई उपाय नहीे है। आइये जानते हैं इससे बचने के कुछ उपाय।

  1. आप कैसा महसूस कर रहे हैं, क्या विचार आ रहे हैं इसके बारे में दूसरों को बताएं, ऐसे न करने पर मन में नकारात्मक विचार आएंगे।
  2. दूसरों की सहायता करें। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखें अजीब या एकांत में हो, तो उसे समूह में शामिल करने की कोशिश करें। इससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा।
  3. अपनी भावनाओं से लड़ें नहीं बल्कि उन्हें स्वीकार करें।
  4. सोशल मीडिया का इस्तेमाल करें, तब ही आप कई तरह की मेंटल प्राॅब्लम से बचे रहेंगे।
  5. काम को पूरा करने पर नहीं बल्कि उसे सही तरीके से करने की कोशिश करें।

लेटेस्ट खबरें