Thursday, October 21, 2021
HomeHealth TipsSymptoms of Osteoarthritis हड्डियों की टक-टक को न करें नजरांदाज भुगतने पड़...

Symptoms of Osteoarthritis हड्डियों की टक-टक को न करें नजरांदाज भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

Symptoms of Osteoarthritis आजकल के दौर में बच्चों के शरीर पहले के मुकाबले ज्यादा दुबले पतले दिखते हैं।  बच्चे सेहतमंद होने की बजाय दिन प्रतिदिन कमजोर होते जा रहे हैं। बच्चे या किसी भी व्यक्ति के शरीर का दुबला-पतला होना उसकी हड्डियों पर सीधा-सीधा असर डालता।
उनकी हड्डियों में ताकत नहीं होती है। कभी-कभी तो हलका सा गिरने पर ही फै्रक्चर आ जाता है। कई बार हाथों या पैरों की उंगलियों को खींचने पर चटकने की आवाज तो आती ही है, लेकिन हड्डियों से कट-कट की आवाज आए तो यह ठीक नहीं है। इसे हलके में न लें। इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।
हड्डियों से आने वाली इस आवाज को मेडिकल टर्म में क्रेपिटस कहते हैं।

कार्टिलेज को नुकसान (Symptoms of Osteoarthritis)

हमारे शरीर में हड्डियों के जोड़ कार्टिलेज से ढके रहते हैं जिसकी बजह से हड्डियों को हिलने में कोई परेशानी नहीं होती है।
लेकिन हड्डियों से जुड़ी बीमारी आस्टियो-आर्थराइटिस इसी कार्टिलेज को कमजोर कर देती है और जैसे-जैसे यह बीमारी बढ़ने लगती है हड्डियों से आवाज आने का सिलसिला भी जारी रहता है और मरीज की तकलीफ बढ़ती चली जाती है। ऐसा होने से जोड़ों के दर्द काफी बढ़ जाते हैं।
कई बार तो उठना बैठना भी मुश्किल भरा हो जाता है। इसलिए इसे नजरांदाज न करें और समय रहते किसी अच्छे डाक्टर को दिखा लें।

बन जाता है गठिया (Symptoms of Osteoarthritis)

गठिया से काफी लोग प्रभवित हैं। ज्यादातर महिलाएं इसकी शिकार ज्यादा हैं। आॅस्टियोआर्थराइटिस, आर्थराइटिस गठिया का ही रूप है।
आस्टियोआर्थराइटिस की यह समस्या शरीर के किसी भी हड्डियों के जोड़ में हो सकती है लेकिन हाथों में, घुटने में, कुल्हे या रीढ़ की हड्डी में ज्यादा देखने को ज्यादा मिलती है।

चोट को भी न करें नजरादांज

कभी-कभी हम चोट को नजरांदाज कर देते हैं और सही से इलाज नहीं करवाते।  अगर उन्हें किसी तरह की चोट लग जाए तो उसका समय रहते इलाज करवा लें। चोट लगने से धीरे-धीरे जॉइंट्स के कार्टिलेज टूटने लगते हैं और बाद में दर्द परेशान कर सकता है।

अत्याधिक मोटापा (Symptoms of Osteoarthritis)

हड्डियों में टक-टक की आवाज आने का कारण मोटापा भी हो सकता है। क्योंकि मोटापा होने पर शरीर का सारा भार जोड़ों पर पड़ता है।
घुटनों पर इसका असर ज्यादा होता है। जोड़ों पर ज्यादा भार पड़ने से जॉइंट्स के कार्टिलेज टूटने लगते हैं और दर्द बनने लगता है।
इसलिए ऐसी समस्या से निजात पाने के लिए मोटे व्यक्ति को मोटापा कम करना चाहिए। नहीं तो बढ़ती उम्र के साथ जोड़ों के दर्द का ज्यादा सामना करना पड़ सकता है।
(Symptoms of Osteoarthritis)
SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE