Wednesday, October 20, 2021
HomeTrendingCovid-19 New Guidelines: कोरोना की नई गाइडलाइन्स

Covid-19 New Guidelines: कोरोना की नई गाइडलाइन्स

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
Covid-19 New Guidelines: भारत में त्योहारों का मौसम आ गया है। अभी नवरात्रे चल रहे हैं। इसके बाद दशहरा आएगा फिर दिवाली और उसके बाद छट पूजा आएगी। इन सभी त्योहारों में काफी संख्या में लोग इकट्ठा हो सकते हैं। भारत में कोरोना की स्थिति अभी कंट्रोल में है, लेकिन अगर आने वाले त्योहारों में कोरोना नियमों (Covid-19 New Guidelines) का पालन नहीं किया गया तो स्थिति भयावह होने में देर नहीं लगेगी। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए नई कोविड 19 गाइडलाइन्स जारी (Covid-19 New Guidelines) की हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को कहा है कि “त्योहार आमतौर पर शुभता, आनंद और बड़े जन समूहों के पर्याय होते हैं और अगर कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार ये नहीं मनाए गए तो कोविड-19 (Covid-19 New Guidelines) की रोकथाम की प्रक्रिया पटरी से उतर सकती है।” उन्होंने आगे कहा कि “दोहरा समाधान यही है कि कोविड प्रोटोकॉल का बहुत सख्ती से अनुपालन किया जाए और टीकाकरण की गति में तेजी लाई जाए।”

उन्होंने उन प्रयोगों के परिणामों को संदर्भित किया जिनमें अनुमान लगाया गया था कि “टीका की पहली खुराक प्राप्त करने वालों में गंभीर रूप से कोविड-19 का शिकार न बनने वालों की संख्या 96 प्रतिशत है और ऐसे लोगों में यह बढ़कर करीब 98 प्रतिशत पहुंच जाती है, जिन्होंने टीके की दोनों खुराकें ली हैं। भारत की कोविड-19 टीकाकरण यात्रा में तात्कालिक ऐतिहासिक उपलब्धि 100 करोड़ टीका लगाना है। भारत में अभी तक 94 करोड़ लोगों को टीकाकरण हो चुका है।”

Covid-19 New Guidelines Issued to the States

  • कंटेनमेंट जोन के रूप में पहचाने गए क्षेत्रों और 5 प्रतिशत से अधिक मामलों की रिपोर्ट करने वाले जिलों में कोई सामूहिक सभा नहीं।
  • 5 प्रतिशत और उससे कम पॉजीटिव दर वाले जिलों में अग्रिम अनुमति तथा सीमित लोगों (स्थानीय संदर्भ के अनुसार) सभा की अनुमति दी जाएगी।
  • साप्ताहिक मामले की पॉजीटिविटी के आधार पर छूट और प्रतिबंध लगाए जाएंगे।
  • राज्य किसी भी आरंभिक चेतावनी की पहचान करने के लिए सभी जिलों में प्रतिदिन मामलों पर करीबी नजर रखेंगे तथा उसी के अनुरूप प्रतिबंध और कोविड उपयुक्त बर्ताव का पालन सुनिश्चित करेंगे।
  • लोगों के कहीं आने-जाने और आपस में मिलने-जुलने को सख्ती से निरुत्साहित किया जाएगा।
  • ऑनलाइन दर्शन तथा वर्चुअल समारोह के प्रावधान को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • पुतला दहन, दुर्गा पूजा पंडाल, डांडिया, गरबा, छठ पूजा, जैसे सभी अनुष्ठान प्रतीकात्मक होने चाहिए।
  • सभाओं/जुलूसों में भाग लेने के लिए लोगों की संख्या संबंधी नियम होने चाहिए।
  • पूजा के स्थानों पर अलग प्रवेश तथा निकास बिन्दु होने चाहिए तथा प्रार्थना के लिए एक ही चटाई, प्रसाद वितरण, पवित्र चल का छिड़काव आदि से बचना चाहिए।

मनसुख मंडाविया ने सभी प्रमुख राज्यों के प्रधान सचिवों तथा मिशन निदेशकों (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) के साथ बातचीत की और इन राज्यों में कोविड-19 (Covid-19 New Guidlines) टीकाकरण की प्रगति की समीक्षा की। बैठक में राज्यों को प्रदान किए गए आपातकालीन कोविड रिस्पोंस पैकेज (ईसीआरपी)-कक वित्तीय संसाधनों के उपयोग पर भी चर्चा की गई। बैठक में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल आदि राज्यों ने भाग लिया।

Read More : आईपीएल में नए सिरे से होगी प्रसारण अधिकारों की नीलामी, दो नई टीमें भी हो सकती हैं शामिल

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE