Friday, October 22, 2021
HomeनेशनलTerrorist attack in Kashmir: कश्मीर में गैर मुस्लिमों को निशाना बना रहे...

Terrorist attack in Kashmir: कश्मीर में गैर मुस्लिमों को निशाना बना रहे आतंकी, स्कूल की प्रिंसिपल और शिक्षक को गोलियों से भूना

इंडिया न्यूज, श्रीनगर:
Terrorist attack in Kashmir: इस्लामिक आतंकियों ने एक बार फिर गुरुवार को श्रीनगर के एक सरकारी स्कूल में अध्यापकों के पहचानपत्र देखने के बाद एक हिंदू और एक सिख शिक्षक की गोली मारकर हत्या (Terrorist attack in Kashmir) कर दी। मरने वालों में एक श्रीनगर की रहने वाली प्रिंसिपल सुपिंदर कौर हैं, जबकि दूसरे की पहचान जम्मू निवासी शिक्षक दीपक चंद के रूप में हुई है। इन दोनों हत्याओं की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा का हिट स्क्वाड कहलाने वाले आतंकी संगठन द रजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) जम्मू-कश्मीर ने ली।

Terrorist attack in Kashmir डाउन-टाउन में हुई वारदात

दोनों अध्यापक श्रीनगर (Terrorist attack in Kashmir) के डाउन-टाउन स्थित ईदगाह के पास संगम में गवर्नमेंट ब्वायज हायर सेकेंडरी स्कूल में पोस्टेड थे। वारदात के समय स्कूल में करीब 18 अध्यापकों के अलावा छह स्कूल के अन्य कर्मचारी भी मौजूद थे। सुपिंदर कौर श्रीनगर के हजूरीबाग के आलूचीबाग में रहतीं थीं। दीपक चंद पटोली मंगोत्रियां जम्मू के रहने वाले थे।

स्कूल के ही एक अन्य अध्यापक ने अपना नाम न छापने की शर्त पर सूत्रों को बताया है कि “करीब 11 बजे थे। हम सभी 10वीं और 12वीं की वार्षिक बोर्ड परीक्षा की तैयारियों के संदर्भ में कांफ्रेंस हाल में जमा थे। इसी दौरान तीन से चार आतंकी आ धमके। उन्होंने हम सभी को एक जगह लाइन में खड़ा किया। आतंकियों ने सभी के मोबाइल फोन और पहचा नपत्र लिए। फिर उन्होंने प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चंद को अलग किया।”

उन्होंने आगे कहा “दोनों लोगों को आतंकी अपने साथ आंगन में ले गए और बाकी शिक्षकों को कमरे में जाने के लिए कहा। इसके थोड़ी देर बाद स्कूल में गोलियों की आवाज गूंजने लगी। आतंकी सभी को धमकाते हुए चले गए। हम सभी डर के मारे जहां थे, वहीं पर खड़े रह गए। गोलियों की आवाज सुनकर आसपास से कुछ लोग जब भीतर आए तो हमारे अंदर भी हिम्मत आई। जब हम मौके पर पहुंचे तो सुपिंदर कौर हिल रही थीं, जबकि दीपक चंद के शरीर में कोई हरकत नहीं थी।” दोनों को जल्द अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत लाया घोषित कर दिया।

स्कूल में एक सिख और एक हिंदू अध्यापक की हत्या की खबर मिलते ही पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह, कश्मीर के आइजीपी विजय कुमार, एसएसपी श्रीनगर संदीप कुमार समेत सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अपने दल के साथ मौके पर पहुंच गए। वारदात के समय स्कूल में मौजूद सभी अध्यापकों से पुलिसकर्मियों ने बातचीत की और उन्हें हिम्मत दी। इसके साथ ही पुलिस महानिदेशक ने आइजीपी के साथ चर्चा कर पूरे इलाके में एक विशेष तलाशी अभियान चलाने और सभी संदिग्ध तत्वों को चिह्नित करने के निर्देश दिए।

Terrorist attack in Kashmir दो दिन में पांच लोगों की हत्याएं

बीते तीन दिनों में श्रीनगर (Terrorist attack in Kashmir) में यह दूसरा बड़ा आतंकी हमला है। इससे पहले मंगलवार 5 अक्टूबर की शाम को आतंकियों ने कश्मीरी हिंदू दवा विक्रेता मक्खन लाल और बिहार से ठेला लगाने वाले विरेंद्र पासवान की हत्या कर दी थी। इसी शाम आतंकियों ने उत्तरी कश्मीर में बांडीपोरा में भी एक स्थानीय निवासी की हत्या की थी।

Terrorist attack in Kashmir 15 अगस्त बताई वजह

आतंकी संगठन टीआरएफ के प्रवक्ता अहमद खालिद ने अध्यापकों को धमकाते हुए कहा है कि “मारे गए दोनों अध्यापकों ने छात्रों व उनके अभिभावकों को 15 अगस्त के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए मजबूर किया था। हमने पहले ही सभी को पोस्टर व अन्य माध्यमों से सूचित किया था कि 15 अगस्त का कार्यक्रम नहीं होना चाहिए।” खालिद ने सभी दुकानदारों व मकान मालिकों से भी कहा है कि “वे सीसीटीवी का इस्तेमाल बंद करें। सीसीटीवी का इस्तेमाल करने वाले अपने अंजाम के खुद जिम्मेदार होंगे।”

Read More: लखीमपुर खीरी हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से कहा- गिरफ्तारी व एफआईआर पर दें स्टेटस रिपोर्ट

Connect With Us : Twitter Facebook
SHARE

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

- Advertisment -
SHARE